भारत विशेष

आपबीती- कोरोना और लॉकडाउन ने क्या अच्छा किया?

दिसंबर के अंतिम दिनों में जब एक अजनबी बीमारी ने चीन के वुहान शहर में दस्तक दी तब बाकी देश सुकून और शांति से विकास, जीडीपी, रोजगार, सैन्य ताकत इत्यादि की बात में मशगूल थे। मीडिया न्यू ईयर सेलिब्रेशन और हाड़ कंपाने वाली ठंड दिखाने में व्यस्त थी। आप और मैं यह सोचने में व्यस्त […]

Advertisements
राजनीति

क्यों अचानक सोशल मीडिया से रूठ गए पीएम मोदी?

सोशल मीडिया आज हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा है। आज हम दोस्तों के बीच हों, परिवार के साथ हों या ऑफिस में हमारा ध्यान इसी पर होता है। जैसे क्या ट्रेंड्स चल रहा, किस मुद्दे पर लोग लिख रहे, क्या बातें चल रही मतलब चापलूसी, कानाफूसी से लेकर चमचागिरी तक आज हम हर बात […]

राजनीति विशेष

प्रशांत और कन्हैया की जोड़ी क्या दोहराएगी बिहार का इतिहास?

बिहार को राजनीति का रिसर्च सेंटर कहा जाता है। जब भी बात राजनीति में बदलाव की आई हो, जब भी जात-धर्म, मंडल-कमंडल की राजनीति सुगबुगाहट हुई। बिहार अगुआ रहा। जहां चाणक्य ने चंद्रगुप्त को सबसे बड़ी सत्ता सौंप दी थी। अब क्या वही बिहार एक और बदलाव का वाहक बनेगा? क्या दिल्ली की जीत का […]

राजनीति विशेष

दिल्ली चुनाव के नतीजों के बाद क्या होगा?

देश की राजधानी दिल्ली में चुनावी संग्राम खत्म हो चुका है। तीखी बयानबाजी, अलग-अलग मुद्दे, भाषण से लेकर राशन तक कि लड़ाई पर जनता ने अपनी मुहर लगा दी है। एग्जिट पोल भी आ चुके हैं। मुद्दे, रुझान सब सामने हैं और अब बस बेशब्री से नतीजों का इंतजार है। कहीं किसी खेमे में एग्जिट […]

व्यापार

ई-रिक्शा होगी भविष्य की सवारी!

रॉ मैटेरियल से लेकर कुशल कारीगरों का अभाव, इसके प्रयोग की सही विधि,चार्जिंग पॉइंट, महंगी बिजली,खराब सड़कें और बाहर से कल-पुर्जे का आयात इसको पलीता लगा रहे हैं।

राजनीति

कश्मीर को लेकर सुप्रीम फैसला,धारा 370 खत्म, दो भागों में बंटा कश्मीर

यह व्यवस्था ठीक वैसी ही होगी जैसे दिल्ली पर लागू होती है।आसान शब्दों में इसे समझें तो अब जम्मू कश्मीर की व्यवस्था अब बहुत हद तक दिल्ली की तरह होगी जहां अधिकतर शक्तियां केंद्र के प्रतिनिधि राज्यपाल या उप राज्यपाल के पास होंगी।

विशेष

तय मानिए संसद सत्र खत्म होते ही कश्मीर में यह होना है!

कश्मीर इन दिनों सुर्खियों में है। सेना की बढ़ती आवाजाही ने राज्य के माहौल को गर्म कर दिया है। विपक्ष,कश्मीरी नेताओं,मीडिया सहित पूरे देश के मन मे एक ही सवाल है कि कश्मीर में इतनी बड़ी संख्या में सेना की तैनाती क्यों? क्या 35A और 370 को लेकर केंद्र सरकार कोई बड़ा फैसला लेने जा […]

राजनीति

सोशल मीडिया पर मिल रही सलाह, किसे और क्यों दल बनायें उम्मीदवार

राजनीति में इति या अंत नाम कि शब्दावली का कोई प्रयोग नहीं है। हिंदी से लेकर ऑक्सफ़ोर्ड तक कि डिक्शनरी आप पलट लीजिए लेकिन उसमें कोई ऐसा शब्द नही जो भारतीय लोकतंत्र को समझा सके। ऐसा इसलिए नही कि डिक्शनरी लिखने वालों की जानकारी कम है बल्कि ऐसा इसलिए है क्योंकि यहां लोकतंत्र का मतलब […]

राजनीति विशेष

बीजेपी में जाति,धर्म और गठबंधन से टूटी टिकट की आस, जनता के लिए भी क्या यही होंगे खास?

लोकसभा चुनावों की रणभेरी बज चुकी है। आज की व्यवस्था में बदलाव होगा या यही व्यवस्था पांच साल और चलेगी यह तो आने वाले चुनाव परिणाम बताएंगे। हालांकि इन सब के बीच जिस तरह जाति, धर्म और दल देखकर वोट देने की परंपरा का निर्वाहन करने की तैयारी दिख रही है उससे तो यही स्पष्ट […]