आम आदमी पार्टी(आप) ने मंगलवार को अयोध्या में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के नेतृत्व में तिरंगा संकल्प यात्रा निकाली। शहर के गुलाबबाड़ी मैदान से सिविल लाइन के गांधी पार्क तक निकाली गई इस यात्रा में हजारों की संख्या में पहुंचे पार्टी कार्यकर्ताओं ने आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले आप की दमदार उपस्थिति दर्ज कराई।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि “हम दिल में राम बगल में संविधान रखकर सरकार चला रहे हैं। इसी सोच के साथ आम आदमी पार्टी ने अब उत्तर प्रदेश में जनता की सेवा करने का मन बनाया है।

अगर उत्तर प्रदेश में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो पार्टी रामराज्य की संकल्पना के साथ जनता की सेवा करेगी।” भाजपा पर निशाना साधते हुए सिसोदिया ने भाजपा पार्टी को न आम की और न ही राम की बताया। इस दौरान आप के उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह और प्रदेश सभाजीत सिंह सहित प्रदेश के सभी पदाधिकारी मौजूद रहे।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि “साढ़े चार साल पहले यूपी की सत्ता में आई योगी सरकार ने जनता को रामराज्य का जो सपना दिखाया था, उससे पूरी जनता ऊब चुकी है। योगी सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, गुंडाराज व बढ़ते ही रामराज्य की संकल्पना है।

कोरोना काल के दौरान बड़े-बड़े भ्रष्टाचार हुये हैं, लेकिन योगी सरकार अपन आप को पाक-साफ साबित करने के लिये झूठा प्रोपोगंडा फैलाती है। उन्होंने कहा कि लोगों अच्छी शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था, रोजगार के अवसर मिले यही रामराज्य की असली पहचान है।”

मनीष सिसोदिया ने आगे कहा कि “भारतीय जनता पार्टी झूठे राष्ट्रवाद के नाम पर प्रदेश की जनता को भ्रमित कर रही है। कहा कि आज कोई भी वर्ग इनसे संतुष्ट नहीं है। जो लोग भगवान राम के नाम पर लूट, भ्रष्टाचार करते हैं वह कभी जनता की कुशलता के लिए अच्छी सरकार नहीं चला सकते।”

उन्होंने दावा किया कि आगामी विधानसभा चुनाव में जनता आम आदमी पार्टी को विकल्प के रूप में चुनेगी ताकि भाजपा की नीतियों से छुटकारा मिल सके। पार्टी का दावा है कि वह भाजपा पार्टी के ‘नकली राष्ट्रवाद’ को बेनकाब करेगी।

भगवान राम की जन्मभूमि में तिरंगा यात्रा के महत्व पर सिसोदिया ने पूरे राज्य में तिरंगा यात्राएं होने की बात कही। “मेरे लिए यह तीसरी यात्रा है। राम मंदिर और हनुमान गढ़ी के कारण अयोध्या महत्वपूर्ण है। भारतीय इतिहास में इसका अपना महत्व है।

भगवान राम की पूजा और तिरंगा यात्रा, यह हमारे कार्य को और पवित्र बनाएगी।” उन्होंने कहा। उपमुख्यमंत्री ने आप की अयोध्या यात्रा को कैसे देखे जाने के सवाल पर जवाब में कहा कि “राम सबके हैं। हर किसी को अयोध्या आना चाहिए।

रामराज्य सुशासन का पर्याय है। अगर कोई राम पर राजनीति करने के लिए अयोध्या आ रहा है तो यह अलग बात है लेकिन रामराज्य सरकार का सबसे अच्छा स्वरूप है। राम भगवान हैं, हमें उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए।

जो राम पर सियासत करते हैं, हमें उन लोगों से सवाल करने चाहिए कि मिड-डे मील में नमक और रोटी देने का खुलासा करने वाला पत्रकार जेल में क्यों है? हाथरस रेप कांड क्यों हुआ? राम उनके लिए सिर्फ एक प्रतीक हैं, प्रेरणा नहीं।”

गुजरात में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद भूपेंद्र पटेल के मंत्रिमंडल का आज विस्तार हो सकता है। भूपेंद्र पटेल ने सोमवार को राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली जिसके बाद अब कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं।

कहा जा रहा है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री के चयन की तरह ही मंत्रिमंडल के गठन में भी चौंकाने वाले नाम आ सकते हैं। युवा व चुनाव में उपयोगी होने वाले नेताओं को मंत्रिमंडल में जगह दी जाएगी जिससे वरिष्ठ मंत्रियों को कम जगह मिलने की संभावना होगी।

मंगलवार की देर शाम से संभावित मंत्रियों की सूची इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रही है जिससे यह माना जा रहा है कि सरकार पर संगठन का वर्चस्व अधिक रहेगा। नये संभावित मंत्रियों की सूची में सबसे पहला नाम विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी का है जो वडोदरा के जाने-माने वकील हैं। गृह राज्यमंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा को केबिनेट रैंक व सौरभ पटेल को वित्त मंत्रालय दिया जा सकता है।

रुपाणी सरकार में सौरभ भाई को वित्त मंत्रालय दिया गया था ‌लेकिन नितिन पटेल के अड़ जाने से उन्हें तब ये मंत्रालय छोड़ना पड़ा था। मंत्रिमंडल के लिए अन्य संभावित नामों में नीमा बेन आचार्य भुज, कीर्ति सिंह वाघेला कांकरेज, शशिकांत पंड्या डीसा, डॉ आशा पटेल ऊंझा, ऋषिकेश पटेल विसनगर, राजेंद्र सिंह चावड़ा हिम्मतनगर, गजेंद्र सिंह परमार प्रांतिज, कनु पटेल साणंद, राकेश शाह एलिसब्रिज, राजकोट से गोविंद पटेल, अरविंद रैयाणी, देवा मालम केशोद, आर सी मकवाना महुवा, पंकज देसाई नडियाद, जीतू वाघाणी भावनगर, कुबेर डिंडोर संतरामपुर, केतन ईनामदार सावली, मनीषा वकील वडोदरा, हर्ष संघवी सूरत, दुष्यंत पटेल भरुच, विनोद मोरडिया कतारगाम, नरेश पटेल गणदेवी, कनुभाई देसाई पारडी के नाम शामिल हैं।

सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल में किन चेहरों को जगह दी जाएगी इसे लेकर सहमति बन चुकी है। यह फेरबदल अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए किया जा रहा है। 

भाजपा गुजरात इकाई के प्रवक्ता यमल व्यास ने बताया कि प्रक्रिया के तहत मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह में उनके नामों की घोषणा की जाएगी। सूत्रों के हवाले से यह खबर है कि नितिन पटेल को नये मंत्रिमंडल में बनाये रखा जाएगा या नहीं, इसे लेकर पार्टी में अटकलें लगाई जा रही हैं। नितिन पटेल विजय रूपाणी के नेतृत्व में उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं।

साथ ही रूपाणी मंत्रिमंडल में वरिष्ठ मंत्री भूपेंद्रसिंह चूडास्मा, आर सी फालदू और कौशिक पटेल को नये मंत्रिमंडल में बनाए रखने को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही हैं। भाजपा के प्रदेश मुख्यालय कमलम में पटेल के चयन के ठीक बाद आयोजित प्रेस वार्ता में गुजरात भाजपा अध्यक्ष सी. आर. पाटिल ने कहा था कि पटेल अकेले शपथ लेंगे और बाकी मंत्रिमंडल को पार्टी के भीतर चर्चा के बाद अंतिम रूप दिया जाएगा। सभी विधायकों को बुधवार तक गांधीनगर पहुंचने का निर्देश दिया गया है।

अंतिम सूची बुधवार रात तक तैयार होने की योजना है। कहा जा रहा है कि नए चेहरों के लिए जगह बनाने के लिए मौजूदा कैबिनेट में कुछ मंत्रियों को हटाए जाने की संभावना है। भाजपा के गुजरात प्रभारी भूपेंद्र यादव अभी भी नए कैबिनेट चयन के लिए गांधीनगर में हैं।

शपथ ग्रहण समारोह प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन से एक दिन पहले गुरुवार को निर्धारित किया गया है। गौरतलब होगी राज्य ने प्रधानमंत्री के जन्मदिन के जश्न को एक वार्षिक कार्यक्रम बना दिया है, जहां सरकार के कई जन कल्याणकारी कार्यक्रमों की घोषणा की जाती है।

सूत्रों के अनुसार शपथ ग्रहण उसी के अनुसार निर्धारित किया गया है, ताकि नए मंत्री तुरंत कार्यभार संभाल सकें और योजनाओं पर अमल कर सकें।

Read More:

  1. बख्तियारपुर का नाम बदलने के सवाल पर भड़के नीतीश, कहा- मेरे यहाँ रहते…
  2. क्वॉड देशों की बैठक में हिस्सा लेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जानें किन मुद्दों पर होगी चर्चा
  3. भवानीपुर की मस्जिद पहुँची ममता बनर्जी, उठा सवाल- क्या चुनाव जीतने के लिए यह है जरुरी?
  4. हिंदी दिवस आज, पढ़ें कुछ खास