बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपने बेबाक बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहती हैं। वे केवल बॉलीवुड कलाकारों से ही नहीं बल्कि कई राजनेताओं से भी वाकयुद्ध कर चुकी हैं। अपने बयानों के कारण उन पर कुछ मुकदमें चल रहे हैं।

उन पर भड़काऊ ट्वीट करने के आरोप में देशद्रोह का केस चल रहा है, जिसे मुंबई पुलिस ने दर्ज किया है। मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज देशद्रोह केस को रद्द कराने के लिए कंगना ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की है लेकिन कोई राहत ना मिलते हुए, उनकी याचिका को कोर्ट ने 13 सितंबर की अगली तारीख दी है।

कंगना ने किसान आंदोलन पर कुछ तीखे ट्वीट किए थे जिसे लेकर कास्टिंग डायरेक्टर और फिटनेस ट्रेनर मुनव्वर अली सय्यद ने अभिनेत्री और उनकी बहन, रंगोली के बयान का संदर्भ देते हुए मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी।

मुनव्वर अली सय्यद के शिकायत पर पुलिस केस दर्ज नहीं कर रही थी, लेकिन बांद्रा मजिस्ट्रेट के आदेश के बाद पुलिस ने यह मुकदमा दर्ज किया था। शिकायतकर्ता मुनव्वर अली ने अपने बयान में उस ट्वीट का हवाला दिया था जिसमें अभिनेत्री ने लिखा था कि “उन लोगों ने मराठा गौरव पर एक भी फिल्म नहीं बनाई।

इस्लाम के नियंत्रण वाली इस इंडस्ट्री में मैंने अपनी जिंदगी और करियर खतरे में डाला है। मैंने शिवाजी और लक्ष्मीबाई पर फिल्म बनाई है।” इसे लेकर कथित तौर पर दो समुदायों के बीच विवाद और सामाजिक द्वेष बढ़ाने, कलाकारों को धार्मिक आधार पर बांटने के आरोप में कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल के खिलाफ 17 अक्टूबर 2020 को मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज की।

उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा-153ए (अलग-अलग धार्मिक, जातीय समूहों में द्वेष को बढ़ावा देना), धारा-295 ए(जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को भड़काना) और धारा-124 ए(देशद्रोह) के तहत मामले दर्ज किए गए।

इस केस में पुलिस ने उन्हें बयान दर्ज कराने के लिए कई बार नोटिस भेजा लेकिन कंगना इसके लिए पुलिस स्टेशन नहीं पहुंचीं। फिर गिरफ्तारी से बचने के लिए उन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी दाखिल की।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीते वर्ष नंवबर माह में कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल को गिरफ्तारी से सुरक्षा देते हुए 8 जनवरी 2021 को दोनों को पुलिस के समक्ष उपस्थित होने का निर्देश दिया था।

Read More

  1. अक्षय कुमार की नई फिल्म का आज आ रहा है ट्रेलर
  2. जातीय जनगणना के पक्ष में नीतीश कुमार केंद्र की असहमति के बाद करेंगे राज्यस्तरीय कोशिश
  3. एआईएमआईएम से निपटने के लिए कांग्रेस और सपा ने तैयार की यह रणनीति
  4. हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में बड़ा हादसा, दर्जनों की मौत
  5. जानें क्या है नक्सलियों से जुड़ा लोन मर्राटु अभियान?
  6. लालू ने जातीय जनगणना को लेकर कह दी बड़ी बात, जानें
  7. संसद में विपक्ष के रवैये से दुखी हुए दोनो सदनों के सभापति, जानें क्या कहा