मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एक बार फिर सियासी सुर्खियों में छाए हुए हैं। इस बार उनके चर्चा में आने की वजह है, मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री बदलने की अटकलों को लेकर किया गया उनका ट्वीट।

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने सोमवार को यह ट्वीट कर मध्य प्रदेश की राजनीति में सनसनी फैला दी कि “मामू का जाना तय है।” सिंह ने लिखा कि “अब मप्र भाजपा में मुख्यमंत्री के लिए केवल दो ही उम्मीदवार रह गए हैं- मोदी जी के उम्मीद प्रहलाद पटेल और संघ के उम्मीदवार वीडी शर्मा।

बाकी उम्मीदवारों के प्रति मेरी सहानुभूति है। मामू का जाना तय।” उन्‍होंने कहा कि “आजकल भाजपा मोदी शाह अपने मुख्यमंत्रियों को बदल रहे हैं। मध्यप्रदेश में भी कुछ हमारे भाजपा के अपने आप को योग्य समझने वाले नेताओं की उम्मीदें बढ़ गई हैं।

कितने और कौन-कौन मप्र भाजपा में उम्मीदवार हैं, कोई हमें बता सकता है? नहीं बताओगे तो मैं कल सूची दे दूंगा।” दरअसल, मामू उन्होंने प्रदेश के बच्चों द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मामा कहे जाने के आधार पर लिखा है। सिंह के इस ट्वीट के बाद मप्र में राजनीतिक खुसुर-पुसुर बढ़ गई है।

इधर, दिग्विजय सिंह भोपाल में सोमवार शाम पत्रकार वार्ता भी कर रहे हैं और संभव है कि वह वार्ता में इस विषय पर भी कोई नई बात कहें। हालांकि उनके ट्वीट पर भाजपा मजे लेते दिख रही है। सिंह ने ट्वीट किया तो प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जवाब देने में देर नहीं की।

उन्होंने तंज कसते हुए लिखा “दिग्विजय सिंह अगर कमलनाथ के पद छोड़ने पर ध्यान देते तो शायद उनके लिए ज्यादा बेहतर होता। कांग्रेस के नेता खुद अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष का नाम तय नहीं कर पा रहे हैं और दूसरों के लिए सूचना जारी कर रहे हैं। जब दिग्विजय सिंह सूची जारी करेंगे तब हम भी बताएंगे कि ये किसके कहने पर जारी की है।”

हालांकि,मध्यप्रदेश में भाजपा के अंदर नेतृत्व परिवर्तन को लेकर सियासी अटकलें तब से चल रही हैं जब पार्टी के दिग्गज नेताओं की आपस में मेल मुलाकात के दौर शुरू हुए थे।

हालांकि कुछ दिन बाद इन मुलाकातों के सियासी मायनों का बाजार ठंडा पड़ गया पर हाल ही में जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दो बार दिल्ली दौरे पर गए और केंद्रीय संगठन के पदाधिकारियों से मुलाकात की तो फिर विपक्ष के नेताओं को बोलने का मौका मिल गया।

दिग्विजय सिंह ने उसी कड़ी में ट्वीट कर सियासी माहौल गरम कर दिये है।

Read More

  1. पाकिस्तान में हुए बस धमाके के बाद चीन ने अपनाया कड़ा रुख, रद्द की सीपीईसी की बैठक
  2. जद(यू) में राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद के लिए छिड़ी बहस, जानें नेताओं ने क्या कहा
  3. सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस द्वारा किए गए समूह के गठन का नेतृत्व संभालेंगे अधीर रंजन चौधरी
  4. शुरू हुआ संसद का मानसून सत्र, पहले ही दिन देखने को मिला भारी हंगामा
  5. 15 दिनों बाद यात्री फिर से उठा सकेंगे मेट्रो के ‘पिंक लाइन’ की सुविधा
  6. सुशील मोदी ने भारत में हेट कैंपेन को लेकर जताया शक, कई बड़े नेताओं को बताया शामिल
  7. मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री बदलने पर ट्वीट कर दिग्विजय सिंह ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी