ओवैसी द्वारा गाजी की मजार पर चादरपोशी को भाजपा ने बताया राष्ट्रद्रोह

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी गुरुवार को बहराइच पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने पूर्वी उत्तर प्रदेश में पार्टी कार्यालय का उद्घाटन किया और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने 2022 का चुनाव पार्टी के लिए सबसे महत्वपूर्ण चुनाव है।

भाजपा पर आरोप लगाते हुए ओवैसी ने कहा कि वह पार्टी केवल हिंदू मुस्लिम की राजनीति करती है। उन्होंने बताया कि अगले साल के विधानसभा चुनाव के लिए उनका पूरा मास्टर प्लान तैयार है और आगामी चुनाव में उनकी पार्टी दमखम से लड़ेगी और अधिक से अधिक सीटों पर विजय हासिल करने का प्रयास करेगी।

उद्घाटन करने के बाद वह सीधे सैयद सालार मसूद गाजी की मजार पर पहुंचे जहां उन्होंने माथा टेकने के बाद चादर चढ़ाया। उनके साथ भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर भी थे। अब भाजपा ने इसे सियासी रंग देते हुए कहा कि जिस गाजी ने भारत पर 17 बार हमला किया उसके मजार पर माथा टेकना राष्ट्रदोह के बराबर है।

मंत्रिमंडल में मंत्री अनिल राजभर ने इसे बहराइच की धरती पर महाराजा सुहेलदेव जैसे महापुरुष और देशभक्त का अपमान बताया। “ओवैसी और ओपी राजभर ने महाराजा सुहेलदेव का अपमान किया। जिस व्यक्ति ने देश पर हमला करने का गुनाह किया हो, जो एक आक्रांता था और देश के ऊपर हमला करने वाला शख्स था,देश के हजारों मां-बहनों और हमारे धर्म पर हमला जिसने बोला हो उसकी मजार पर जाना और सम्मानित करने का काम ना केवल राजभर समाज का अपमान है बल्कि गरीबों और देश का अपमान है।

ऐसे लोग राजनीति में कहीं नजर नहीं आने चाहिए। ऐसे लोगों को राजभर समाज अपनी बस्ती में घुसने नहीं देगा और ये दोनों नेताओं ने राष्ट्रद्रोह जैसा काम किया है।” उन्होंने कहा कि इसका जवाब जनता चुनाव के वक्त ही देगी।

उन्होंने ओवैसी और राजभर के भागीदारी संकल्प मोर्चा को भी जोकरों का गठबंधन करार दिया। वाराणसी में मीडिया से बात करते हुए मंत्री व प्रदेश सरकार के प्रवक्ता अनिल राजभर ने कहा कि भागीदारी मोर्चा राजनीतिक दलों का गठबंधन नहीं बल्कि राजनीतिक जोकरों का गठबंधन है। ऐसे लोग उलूल जुलूल गठबंधन कर समाज को ठगने का काम करते हैं।

साथ ही कहा कि ऐसे लोगों को समाज, देश और महापुरुषों के लिए कुछ नहीं करना है। इनका काम बस जनता को गुमराह करना है। ऐसे लोग अपने-अपने समाज को बेचने का काम करते हैं। उन्होंने पूछा कि, “जिस क्रूर शासक आक्रांता ने भारत को लूटा, हिंदूओं पर अत्याचार किया।

मंदिरों को तोड़ डाला और जिसके आतंक को खुद महाराज सुहेलदेव ने खत्म किया उसे पूजने वाले के साथ ओमप्रकाश राजभर कैसे गठबंधन कर सकते हैं?” 

Read More

  1. बड़े नामों को कैबिनेट से हटा पीएम मोदी ने दिया संदेश, नाम बड़े और दर्शन छोटे का फॉर्मूला नही चलेगा
  2. किस मंत्री को मिला कौन सा मंत्रालय, किसका बढ़ा कद और किसे मिली नई जिम्मेदारी, जानें
  3. उत्तर प्रदेश में प्रशांत किशोर, ममता बनर्जी की इंट्री बढ़ा सकती है टेंशन
  4. सरकार से विवाद के बीच में नियमों के पालन के लिए ट्विटर ने मांगा आठ हफ्तों का अधिक समय
  5. डीआरडीओ और एआईसीटीई ने रक्षा प्रौद्योगिकी में नियमित मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी कार्यक्रम शुरू किया
  6. अजय भट्ट ने रक्षा राज्य मंत्री के रूप में पदभार संभाला

Leave a Comment

Your email address will not be published.