जनता दाल यूनाइटेड सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई टल गई है जिसका मतलब यह है की उन्हें अभी कुछ दिन और जेल में ही बिताने पड़ेंगे. केस की सुनवाई 27 नवंबर तक के लिए टाल दी गई है जिसका अर्थ यह है की इस साल भी दिवाली वह जेल में ही मनाएंगे.

झारखंड हाई कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति अपरेश कुमार सिंह की अदालत में सुनवाई चल रही थी जिसके दौरान सीबीआई के वकील के और समय मांगने के कारण सुनवाई को टालना पड़ा. RJD के समर्थक उम्मीद लगाकर बैठे थे की चुनाव के नतीजे आने से पहले लालू प्रसाद यादव को बेल मिल जाएगी. लालू के बेटे और महागठबंधन के मुख्यमंत्री के चेहरे तेजस्वी यादव ने तो कई बार खुले मंच से इस बात का ऐलान किया था की 9 नवंबर को लालू प्रसाद यादव बाहर आएँगे और 10 तारीख को बिहार में महागठबंधन की सरकार बनेगी.

आपको बतादें की देश के बहुचर्चित चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव जेल की हवा खा रहे है. उन्हें 7 साल की सज़ा हुई थी. इसी केस में आज सुनवाई होनी थी. फ़िलहाल लालू प्रसाद यादव रांची के RIMS में अपना इलाज करवा रहे है. लालू की तरफ से लगाई गई याचिका में कहा  गया था की लालू अपनी आधी सज़ा काट चुके है इसलिए उन्हें जमानत देदी जाए. याचिक में उनकी सेहत और बीमारी के बारे में भी विस्तृत रूप से बताया गया है.

कल बिहार के तीसरे और अंतिम चरण का मतदान होना है. RJD को लग रहा था की अगर लालू प्रसाद यादव को बेल मिल जाती है तो उनके कार्यकर्ताओं के लिए यह खबर दुगना जोश भरने का काम करेगी। 

बढ़ती महंगाई पर लालू के ट्वीट- पिअजवा अनार हो गइल बा…

तेजस्वी ने तोड़ा पिता लालू के रैलियों का रिकॉर्ड, एक दिन में 19 जनसभाओं को किया संबोधित

डबल नही ट्रबल इंजन-पीएम के बयान पर बोले लालू, प्रवासी मजदूरों को लेकर पूछा अजीब सवाल, पढ़ें