वर्ष 2021 का नोबेल शांति पुरस्‍कार फिलीपीन्‍स की पत्रकार मारिया रेस्‍सा और रूस के दमित्री मुरातोव को दिया गया है। उन्हें यह पुरस्कार अपने-अपने देशों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए किए प्रयासों को देखते हुए प्रदान किया गया। इसकी औपचारिक घोषणा नॉर्वेजियन नोबेल समिति द्वारा 8 अक्टूबर, 2021 को की गई।

समिति ने कहा कि ये दोनों उन सभी पत्रकारों के प्रतिनिधि भी हैं जो एक ऐसी दुनिया में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए खड़े हुए हैं, जहां लोकतंत्र और प्रेस की स्वतंत्रता को मुश्किल परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है।

मारिया रेस्‍सा एक डिजिटल मीडिया कंपनी ‘रैपलर’ की सह-संस्थापक हैं जो 2012 से खोजी पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रही है। गौरतलब हो कि रैपलर ने रोड्रिगो दुतेर्ते के शासनकाल में विवादास्पद और जानलेवा ड्रग-विरोधी अभियान का उजागर किया था और उसके सबूत सामने लाए थे।

रेस्‍सा और ‘रैपलर’ ने इस बात के भी दस्तावेज प्रस्तुत किए थे कि कैसे सोशल मीडिया का इस्तेमाल फर्जी ख़बरों को फैलाने, विरोधियों को परेशान करने और सार्वजनिक प्रवचन में हेरफेर करने के लिए किया जाता रहा है।

दमित्री मुरातोव ने 1993 में रूस में ‘नोवाजा गजेटा’ नामक अखबार की शुरुआत की थी। 1995 से वह इसके प्रधान संपादक हैं।

नोबेल समिति द्वारा जारी बयान के अनुसार, 1993 में अपनी शुरुआत के बाद से ही नोवाजा गजेटा भ्रष्टाचार, पुलिस द्वारा की जा रही हिंसा, गैरकानूनी गिरफ्तारी, चुनावी धोखाधड़ी और ‘ट्रोल कारखानों’ से लेकर रूस के भीतर और बाहर सैन्य बलों के उपयोग जैसे विषयों पर महत्वपूर्ण लेख प्रकाशित कर रहा है।

नोबेल समिति द्वारा जारी बयान में कहा गया कि स्वतंत्र, आजाद और तथ्य-आधारित पत्रकारिता सत्ता के दुरूपयोग, झूठ और युद्ध प्रचार से बचाव का काम करती है। समिति ने कहा कि यह “यह आश्वस्त है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सूचना की स्वतंत्रता एक सूचित जनता को सुनिश्चित करने में मदद करती है और ये अधिकार लोकतंत्र के लिए महत्वपूर्ण पूवार्पेक्षाएँ हैं और युद्ध और संघर्ष से रक्षा करते हैं।” समिति ने आगे कहा कि मारिया रेसा और दिमित्री मुराटोव को नोबेल शांति का पुरस्कार इन मौलिक अधिकारों की रक्षा और बचाव के महत्व को रेखांकित करने के लिए दिया गया है।

Read More-

  1. लखीमपुर- सुप्रीम कोर्ट ने जांच पर उठाए सवाल, पुलिस के सामने पहुँचे आशीष मिश्रा
  2. दीपक चाहर ने लूट ली महफ़िल, भरे मैदान में किया गर्लफ्रैंड को प्रोपोज़