लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के पारस गुट के प्रदेश अध्यक्ष सांसद प्रिंस राज रविवार को पटना पहुंच राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की अध्‍यक्षता की और पार्टी कार्यालय में प्रदेश कार्यकारिणी, जिलाध्यक्षों और सभी प्रकोष्ठों के नेताओं के साथ-साथ दलित सेना के कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि “लोजपा में न तो कोई टूट हुई और न ही कोई अलग गुट बना है।

पूरी पार्टी एकजुट है। चिराग पासवान आज भी लोजपा के सांसद हैं और राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस हैं। जो हुआ है उसपर चिराग पासवान को अत्ममंथन करना चाहिए कि ऐसा क्यों हुआ?” वहीं पार्टी की गुटबाजी और टूटने पर प्रिंस ने पार्टी न चिराग पासवान ना ही खुद की बल्कि स्वर्गीय रामविलास पासवान की बताई। “

इस पार्टी के लिए एक सपना रामविलास पासवान ने देखा था कि जिस घर में अंधेरा हो उस घर में चिराग जलाने का। हालांकि पार्टी और अपने पिता के इस सपने के बारे में चिराग पासवान को भी समझना चाहिए। उन्हें समझना चाहिए कि हम लोग एक ही परिवार के हैं और कहीं बातचीत होनी चाहिए।” प्रिंस ने कहा।

मालूम हो कि दोफाड़ होने के बाद प्रिंस राज अपने चचेरे भाई चिराग पासवान को छोड़कर चाचा पशुपति पारस खेमे के साथ हैं। वह पारस गुट वाली लोजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए हैं। पत्रकारों से मुखातिब होते हुए उन्होंने आज स्वर्गीय रामविलास पासवान की विचारधारा को मजबूत करने को सर्वप्रथम बताया।

उन्होंने कहा कि पंचायत स्तर तक लोजपा और दलित सेना का संगठन तैयार करना है, साथियों को बूथ स्तर तक कमेटी बनाने का लक्ष्य दिया गया है, जातीय जनगणना के बारे में कहा कि गरीबों के हित में कोई काम हो तो अच्छी बात है।

Read More

  1. ललन सिंह को जद(यू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान
  2. दिल्ली में भारी बारिश से परेशानी, हुआ जलभराव
  3. ओलंपिक के सेमीफाइनल में भारतीय पुरुष हॉकी टीम के लिए हार्दिक सिंह ने अंतिम मिनट पर दागा गोल
  4. तेजस्वी यादव ने फिर किया विपक्षी दलों के साथ आने की मांग का आह्वाहन
  5. अखिलेश यादव ने शुरू की छोटे दलों को एक साथ लाकर भाजपा को हराने की मुहिम
  6. प्रधानमंत्री मोदी ने गिनाए ई-रुपी के फायदे, किया लॉन्च