चीन की अवैध घुसपैठ की कोशिशें थमती नजर नही आ रही हैं। पीएलए लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ और कब्जे की अवैध कोशिश में लगी है हालांकि भारतीय सेना की तत्परता और आक्रामक रवैये से वह अब तक अपने नापाक इरादों में नाकाम रही है। हाल के दिनों की बात करें तो 29 अगस्त से लेकर अभी तक चीन कई बार यथास्थिति को बदलने की कोशिश कर चुका है।


अब इन सब के बीच अमेरिका की तरफ से बड़ा बयान आया है। अमेरिका ने अपने बयान में चीन को चेताया और कहा है कि हम इसकी गहन निगरानी कर रहे हैं और शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद कर रहे हैं। अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि ताइवान स्ट्रेट से शिनजियांग, साउथ चाइना सी से हिमालय तक, साइबर स्पेस से लेकर इंटल ऑर्गनाइजेशन तक, हम चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ काम कर रहे हैं, जो अपने ही लोगों को दबाना चाहती है और अपने पड़ोसियों को धमकाना चाहती है। केवल इन उकसावों को रोकने का एक तरीका है, बीजिंग के खिलाफ खड़ा होना होगा।


गौरतलब है कि मई से लेकर अब तक चीन कई बार उकसावे की हरकतें करता आया है। दोनो देशों की सेनाओं के बीच कई बार झड़प की स्थिति में बनी जिसमे एक बार कई भारतीय और चीनी सैनिक शहीद हो गए। हाल फिलहाल के दिनों की बात करें तो 29 अगस्त को चीन ने पैंगोंग त्सो इलाके में, 30 अगस्त को हेलमेट टॉप इलाके में और 1 सितंबर को चेपुजी कैम्प में अवैध घुसपैठ की कोशिश की हालांकि भारतीय सेना की तत्परता से चीन को मुंहतोड़ जवाब मिला और उसे अपने कदम वापस खींचने पड़े।