बिहार विधानसभा चुनावों के नतीजों के एलान के बाद आज एनडीए विधायक दल की बैठक में सीएम नीतीश कुमार को एक बार फिर विधायक दल का नेता सर्वसम्मति से चुन लिया गया है। इसके साथ ही उन सभी अटकलों और बयानों पर विराम लग गया जिसमें कहा गया था कि बिहार में सीएम नीतीश कुमार नही होंगे।


नीतीश कुमार सातवीं बार सीएम पद की शपथ लेंगे हालांकि दिलचस्प यह है कि अभी तक उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के नाम को लेकर कोई जानकारी सामने नही आई है। एक तरफ एनडीए में जहां शपथ ग्रहण और सरकार की रूपरेखा पर चर्चा और मंथन का दौर जारी है वहीं महागठबंधन की तरफ से भी लगातार जदयू-बीजेपी पर निशाना साधा जा रहा है।


इसी क्रम में आज कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने आज कहा,’इस बार नीतीश कुमार की स्थिति अच्छी नहीं है। भाजपा ने उनके खिलाफ साजिश करके उन्हें कमज़ोर करने की कोशिश की है। अब अगर वो दोबारा NDA के नेता या मुख्यमंत्री चुने जाते हैं तो नीतीश कुमार जी की हालत वही रहेगी कि रिमोट किसी और के पास और मुख्यमंत्री नीतीश रहेंगे।’

इससे पहले राजद के प्रवक्ता मनोज झा ने भी नीतीश कुकर पर वार किया था और तंज कसते हुए कहा,’कितनी बड़ी विडंबना है कि BJP 74 सीट लाती है लेकिन CM का चेहरा नहीं है उनके पास, मिल भी नहीं रहा है, खोजना भी नहीं चाह रहे हैं, बड़ा दवाब है! तो 40 सीट वाले को CM पद का उम्मीदवार चुनेंगे. 4 सीट HAM और VIP की है. इस विडंबना का अनफोल्डिंग आगे कैसे होगा, हमें इंतज़ार है।’ वहीं राजद नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा दीवाली एनडीए ने मनाई लेकिन होली हम मनाएंगे।