भारत मे कोरोना वायरस का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। भारत ब्राज़ील को पीछे छोड़ अब अमेरिका के बाद कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित दूसरा देश बन चुका है। भारत मे कुल मामले 45 लाख के पार जा चुके हैं, प्रतिदिन मिलने वाले नए मरीजों की संख्या एक लाख के आंकड़े के आसपास है और मृतकों की संख्या 80 हजार के करीब पहुंचने को है। इसी बीच वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन ने  पाकिस्तान के कोरोना से निपटने के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की है।

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन की तरफ से जारी बयान में पाकिस्तान की तारीफ करते हुए कहा गया है कि पाकिस्तान ने पोलियो से निपटने के लिए बनाए गए शानदार बुनियादी ढांचे का प्रयोग कोरोना वायरस से निपटने में किया है। इस दौरान डब्लूएचओ चीफ ने पाकिस्तान के स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने घर-घर जाकर बच्चों को पोलियो की वैक्सीन देने वाले पाकिस्तान के कम्यूनिटी हेल्थ वर्कर्स की भूमिका अहम रही है।

कोरोना महामारी के दौर में इनका इस्तेमाल सर्विलांस, संपर्क में आए लोगों की जांच और केयर के लिए किया गया। इसका परिणाम ये हुआ कि देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से गिरावट आई।


गौरतलब है कि जो पाकिस्तान जून के मध्य तक कोरोना के कहर से जूझ रहा था और संक्रमितों और मृतकों की संख्या कोरोना की वजह से लगातार बढ़ रही थी वहां अचानक से नए मामलों और मौतों में आई कमी ने पूरी दुनिया सहित वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन को भी हैरान कर दिया है। चर्चाओं पर गौर करें तो पाकिस्तान ऐसा करने में दो वजहों से सफल रहा। ख़बरों के मुताबिक उसे इस बीमारी से लड़ने में चीन का जबरदस्त सहयोग मिला वहीं दूसरी तरफ आंकड़े छिपा कर भी पीठ थपथपाने की कोशिश की गई। खैर जो भी हो भारत मे बिगड़ते हालात के बीच पाकिस्तान के किसी काम की शायद पहली बार की गई तारीफ मायने तो रखती है।