बिहार विधानसभा चुनावों को लेकर आरोप-प्रत्यारोप और सवाल जवाब का दौर जारी है। यहां सत्ता पक्ष अपनी उपलब्धियां बताने में लगा है वहीं विपक्ष के पास गिनाने के लिए नाकामियों की एक लंबी लिस्ट है। दोनो तरफ से आरोपों के शब्दबाण जमकर चलाये जा रहे है। इसी क्रम में बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तेजस्वी से छह सवाल पूछे हैं।


सुशील मोदी ने अपने पहले सवाल में पूछा,’जंगलराज के युवराज से छह सवाल। पहला-युवराज यदि अपने माता-पिता के भयावह जंगलराज पर बात नहीं करना चाहते, तो यही बतायें कि विधायक, मंत्री और विपक्ष के नेता की हैसियत से वे चमकी बुखार, बाढ़ और लाकडाउन के समय कितने गरीब परिवारों के साथ खड़े हुए?’


उनका दूसरा सवाल है- हमारी सरकार ने 2 करोड़ 38 लाख गरीब महिलाओं के खाते में 15-15 सौ रुपये डाले। उस समय युवराज किसी गरीब महिला की मदद के लिए क्यों नहीं आये?


मोदी ने अपने तीसरे सवाल में पूछा-जंगलराज के युवराज से छह सवाल-गरीब-पिछड़े परिवार से आये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार की 85 लाख गरीब महिलाओं को उज्जवला योजना के तहत मुफ्त गैस कनेक्शन दिये। लॉकडाउन के समय उन्हें तीन-तीन सिलेंडर भी मुफ्त दिये गए।


चौथे सवाल में डपोरशंखी वादे का आरोप लगाते हुए मोदी ने पूछा,’बिहार सरकार ने लॉकडाउन के दौरान 1 करोड़ 40 लाख राशनकार्डधारी गरीबों के खाते में 1-1 हजार रुपये डाले। जो युवराज आज बड़े-बड़े डपोरशंखी वादे करते घूम रहे हैं, उन्होंने अपनी करोड़ों की  सम्पत्ति में से किसी की एक रुपये की भी मदद क्यों नहीं की?


सुशील मोदी ने पांचवा सवाल दागते हुए तेजस्वी से जानना चाहा कि जंगलराज के युवराज से छह सवाल -लॉकडाउन के समय विभिन्न राज्यों में फँसे 22 लाख मजदूरों को सुरक्षित वापस लाने के लिए एनडीए सरकार ने 1600 स्पेशल ट्रेन चलायी, लेकिन किसी से किराया नहीं लिया।


अपने छठे सवाल में मोदी ने पूछा- कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के समय जब लोगों के काम-धंधे बंद थे, तब एनडीए की डबल इंजन सरकार ने बिहार के 9 करोड़ गरीबों को 40 किलो अनाज मुफ्त दिया। किसी को भूखा नहीं सोने दिया गया।

आपको बता दें कि पिछले दो दिनों में सुशील मोदी ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से अभी तक कुल 11 सवाल पूछे हैं। हालांकि इन सवालों पर कोई प्रतिक्रिया राजद की तरफ से अभी तक नही आई है।