पाकिस्तान से कश्मीर में नशीले पदार्थों की तस्करी के आरोप में 5 पुलिसकर्मियों सहित 17 गिरफ्तार

पाकिस्तान से आने वाले मादक पदार्थों की तस्करी पर एक बड़ी कार्रवाई में, पुलिस ने जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पांच पुलिसकर्मियों सहित 17 लोगों को गिरफ्तार किया हैं।

पाकिस्तान से आने वाले मादक पदार्थों की तस्करी पर एक बड़ी कार्रवाई में, पुलिस ने जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पांच पुलिसकर्मियों सहित 17 लोगों को गिरफ्तार किया हैं।

पुलिस ने कहा कि बड़ा मॉड्यूल नियंत्रण रेखा के पास से मादक पदार्थों की तस्करी और फिर कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में इसकी आपूर्ति करने में शामिल था।

पुलिस के मुताबिक, ड्रग्स पाकिस्तान से कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर के रास्ते आ रहा था। कुपवाड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) युगल कुमार मन्हास ने कहा, “हमने एक बड़े नशीले पदार्थ के मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है।

17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है – पांच पुलिसकर्मी, दुकानदार, एक राजनीतिक कार्यकर्ता और एक ठेकेदार,” कुपवाड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) युगल कुमार मन्हास ने कहा कि ड्रग्स पाकिस्तान से आ रहे थे।

एसएसपी ने कहा, “केरन का रहने वाला शाकिर अली खान, जो पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में रहता है, केरन में रहने वाले अपने बेटे तमहीद अहमद को ड्रग्स की आपूर्ति कर रहा था।

पुलिस के मुताबिक, उन्होंने कुपवाड़ा शहर और उसके आसपास के इलाकों में कुछ ड्रग पैडलर्स पर निशाना साधा। जांच के दौरान, उन्होंने मादक पदार्थों की तस्करी में शामिल एक बड़े नेटवर्क का पता लगाया।

पुलिस ने बताया कि आरोपी के पास से अब तक दो किलो हेरोइन बरामद हुई है। एसएसपी ने कहा, ‘मॉड्यूल को पांच किलो हेरोइन मिली थी।’

पुलिस ने कहा कि इस साल उन्होंने कश्मीर के सीमावर्ती जिले में 161 लोगों के खिलाफ़ 85 मामले दर्ज किए हैं। नशा तस्करी सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई हैं।

यहां तक ​​कि नियंत्रण रेखा के पास तैनात सुरक्षा बलों के अधिकारियों पर भी सीमा पार मादक पदार्थों की तस्करी में मदद करने का आरोप लगाया गया हैं।

पिछले साल, राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने आतंकवादी समूह लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े सीमा पार से मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा क्षेत्र में तैनात सीमा सुरक्षा बल के एक अधिकारी को गिरफ्तार किया था।

एनआईए ने बीएसएफ के सब-इंस्पेक्टर रोमेश कुमार से 91 लाख रुपये नकद भी बरामद किए थे। नकदी को मादक पदार्थों की तस्करी की आय का हिस्सा बताया गया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *