पंजाब में इस्तेमाल होने वाले आरपीजी को पाकिस्तान से तस्करी कर लाया गया था, हमलावरों की पहचान हुई : पुलिस

पंजाब पुलिस ने सोमवार को दावा किया कि शुक्रवार की रात तरनतारन जिले के एक पुलिस स्टेशन पर दागे गए रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड (आरपीजी) को पाकिस्तान से तस्करी कर लाया गया था और हमले को अंजाम देने वालों की पहचान कर ली गई हैं।

पंजाब पुलिस ने सोमवार को दावा किया कि शुक्रवार की रात तरनतारन जिले के एक पुलिस स्टेशन पर दागे गए रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड (आरपीजी) को पाकिस्तान से तस्करी कर लाया गया था और हमले को अंजाम देने वालों की पहचान कर ली गई हैं।

सुखचैन सिंह गिल, पुलिस महानिरीक्षक (IGP) ने कहा, “तरनतारन हमले की जांच के तहत, हमने पाया है कि आरपीजी को पाकिस्तान से तस्करी कर लाया गया था, बाकी की जांच चल रही है…सरहाली थाने पर आरपीजी हमले को अंजाम देने वालों की पहचान कर ली गई है।’

“जांच पूरी होने के बाद सभी सूक्ष्म विवरण सामने आएंगे। मैं पूरे दृढ़ संकल्प के साथ यह कह रहा हूं, हमने पूरे मामले का खुलासा कर दिया है, जिसे हम जल्द ही पेश करेंगे।

शनिवार को पंजाब के तरनतारन पुलिस सांझा केंद्र में एक कम तीव्रता वाले विस्फोट की सूचना मिली थी, जिसे पुलिस ने एक आरपीजी हमला बताया था।

यह भी कहा कि उन्होंने गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया हैं। इस बीच, स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) प्रकाश सिंह को सरहाली कलां पुलिस स्टेशन से हटा दिया गया और उनकी जगह सुखबीर सिंह को नियुक्त किया गया।

हमले के बाद, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारी शनिवार शाम तरनतारन के सरहाली कलां थाने पहुंचे क्योंकि अधिकारियों को इस घटना में “आतंकी लिंक” का संदेह था।

शुक्रवार रात अमृतसर-बठिंडा हाईवे पर सरहाली थाने से सटे सांझ केंद्र में कुछ अज्ञात लोगों ने गोली चला दी। कोई हताहत नहीं हुआ लेकिन खिड़की के शीशे और इमारत की दीवार का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया।

पुलिस ने सात संदिग्धों को हिरासत में लिया है और हमले के सिलसिले में उनसे पूछताछ कर रही हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *