अफगानिस्तान में भूकंप ने मचाई तबाही, 1000 लोगों की मौत, 1500 से ज्यादा जख्मी, प्रधान मंत्री मोदी बोले ‘भारत अफगानिस्तान के साथ खड़ा है’

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अफगानिस्तान में विनाशकारी भूकंप पर अपनी संवेदना व्यक्त की और कहा कि भारत पड़ोसी देश के साथ खड़ा है और जल्द से जल्द सभी सहायता प्रदान करने के लिए तैयार हैं। “अफगानिस्तान में आज विनाशकारी भूकंप की खबर से गहरा दुख हुआ।

अनमोल जीवन के नुकसान पर मेरी गहरी संवेदना। भारत अपने कठिन समय में अफगानिस्तान के लोगों के साथ खड़ा है और जल्द से जल्द हर संभव आपदा राहत सामग्री उपलब्ध कराने के लिए तैयार है”, मोदी जी ने ट्वीट में लिखा। भारत में अफगानिस्तान के राजदूत फरीद मामुंडजे ने भारत द्वारा दिए गए समर्थन की सराहना की।

“इस कठिन समय में भारत की एकजुटता और समर्थन की सराहना करते हैं। अफगानिस्तान में मानवीय स्थिति पहले से ही बदतर से बदतर होती जा रही थी और हाल ही में आए भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं की घटना ने कई अफगानों के लिए जीवन को असहनीय बना दिया है।

अधिकारियों ने कहा कि बुधवार तड़के अफगानिस्तान के सुदूर सीमावर्ती इलाके में आए शक्तिशाली भूकंप में कम से कम 1,000 लोगों की मौत हो गई और करीब 1,500 लोग घायल हो गए। रिपोर्टों के अनुसार, अज्ञात संख्या में लोग अभी भी मलबे के नीचे फंसे हुए हैं, जबकि भूस्खलन और बारिश ने बचाव कार्यों को जटिल बना दिया हैं।

मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के एक प्रवक्ता ने रॉयटर्स को बताया, “हालांकि खोज और बचाव के प्रयास जारी हैं, भारी बारिश और हवा के कारण हेलीकॉप्टर आज दोपहर उतरने में असमर्थ हैं। पूर्वी पक्तिका प्रांत सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ।

पाकिस्तान की सीमा से लगे निकटवर्ती खोस्त और नंगहार प्रांतों में भी हताहत और क्षति की सूचना है। 2014 में भूस्खलन के बाद से पूर्वोत्तर बदख्शां प्रांत में 2,000 लोगों के मारे जाने के बाद से भूकंप देश में आने वाली सबसे भीषण आपदा थी। 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments