राष्ट्रपति चुनाव : यशवंत सिन्हा पर जाकर पूरी हो सकती है विपक्ष के उम्मीदवार की तलाश

सूत्रों से पता चला है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा का नाम विपक्षी दलों के संयुक्त उम्मीदवार के रूप में प्रस्तावित किया गया हैं। विपक्ष एक उम्मीदवार को अंतिम रूप देने के लिए संघर्ष कर रहा है क्योंकि तीन संभावित उम्मीदवारों ने अब तक चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है – राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार, नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और महात्मा गांधी के पोते गोपालकृष्ण गांधी, जिन्होंने सभी का समर्थन किया है लेकिन वे उम्मीदवारी के लिए सहमत नहीं हैं।

संभवत: एक उम्मीदवार पर फैसला करने के लिए विपक्षी दल आज दोपहर दिल्ली में श्री पवार के आवास पर बैठक करने वाले हैं। इस बीच, भाजपा भी आज संसदीय बोर्ड की बैठक करने वाली है, जहां उसके उम्मीदवार को अंतिम रूप देने की संभावना है, पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया।

इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्चुअल रूप से शामिल होने की संभावना हैं। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 29 जून है; मतदान 18 जुलाई को होगा और वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा हैं।

भाजपा सरकार में मंत्री रहे पूर्व नौकरशाह यशवंत सिन्हा पिछले साल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए थे। 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए उनकी संभावित उम्मीदवारी के बारे में चर्चा आज सुबह शुरू हुई जब उन्होंने ट्वीट किया कि उन्हें “अधिक विपक्षी एकता” के लिए काम करने के लिए पार्टी से “अलग होना चाहिए”।

सिन्हा के करीबी सूत्रों ने बताया कि उन्होंने पार्टी उपाध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा ममता बनर्जी को भेज दिया है। उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रपति चुनाव पर अभी कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। विपक्षी दलों के सामूहिक रूप से निर्णय लेने के बाद वह एक औपचारिक बयान जारी करेंगे, यह पता चला है।

शरद पवार के आवास पर विपक्ष की बैठक तब भी होनी है, जब महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट पैदा हो गया है, जहां श्री पवार की पार्टी कांग्रेस के साथ शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार में भागीदार है। बैठक के बाद उनके मुंबई जाने की संभावना हैं।

इससे पहले, 17 विपक्षी दलों के नेता भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के खिलाफ़ संयुक्त राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए आम सहमति बनाने के लिए 15 जून को ममता बनर्जी द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल हुए थे।

“यह एक अच्छी शुरुआत है। हम कई महीनों के बाद एक साथ बैठे हैं, और हम इसे फिर से करेंगे,” सुश्री बनर्जी ने बैठक के बाद कहा था, जिसमें कांग्रेस ने भी भाग लिया था। विपक्ष को कम से कम सांकेतिक धक्का देने का मौका मिल रहा है क्योंकि एनडीए के पास पक्की जीत के लिए संख्याबल नहीं है।

राष्ट्रपति चुनाव एक निर्वाचक मंडल पर आधारित होता है जिसमें विधायकों और सांसदों के वोट शामिल होते हैं। प्रत्येक विधायक का वोट मूल्य राज्य की जनसंख्या और विधानसभा सीटों की संख्या पर निर्भर करता है। इस प्रकार, निर्वाचक मंडल की कुल संख्या 10,86,431 है। 50 प्रतिशत से अधिक मतों वाला उम्मीदवार जीत जाता है।

एनडीए 13,000 वोट कम है। हालांकि, एनडीए के पास 2017 में भी अपने दम पर संख्या नहीं थी, लेकिन उसे तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), वाईएसआर कांग्रेस और बीजू जनता दल से कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष के उम्मीदवार मीरा कुमार के खिलाफ़ श्री कोविंद के लिए समर्थन मिला। इस बार टीआरएस के तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव बीजेपी के खिलाफ विपक्षी ताकतों को इकट्ठा करने की कोशिशों का हिस्सा हैं। 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments