लखीमपुर खीरी में किसानों को रौंदने के मुख्य आरोपी, आशीष मिश्रा की ज़मानत अर्जी अदालत ने बुधवार को खारिज कर दी। आशीष मिश्रा के साथ ही सह अभियुक्त,आशीष पांडे की जमानत याचिका को भी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट चिंताराम ने खारिज कर दिया।

इधर, इस हिंसा के सिलसिले में ही दो और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जिसे मिलाकर इस मामले में अब तक कुल छह आरोपियों को गिरफ़्तार किया जा चुका है। विशेष जांच दल यानी एसआईटी के समक्ष पेश हुए अंकित दास और लतीफ उर्फ ​​काले को पूछताछ के बाद बुधवार को हिरासत में लिया गया था।

इससे पहले पुलिस ने पूछताछ के लिए दोनों की हिरासत मांगी थी, जबकि उनके वकील ने इसका विरोध करते हुए कहा कि उनसे कोई भी जब्ती की जानी बाक़ी नहीं है। विशेष जांच दल द्वारा नौ अक्टूबर को 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार किए गए आशीष मिश्रा को मंगलवार से तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

इस बीच आरोपी का परिवार और वकील जमानत के लिए लगातार प्रयासरत हैं। वकीलों ने सीजेएम कोर्ट में जमानत अर्जी लगाई थी जिसे बुधवार को कोर्ट ने खारिज कर दिया जिसके बाद अब वकील जिला जज की अदालत में अर्जी लगाने की तैयारी कर रहे हैं।

आशीष पांडे की भी अदालत में जाने की तैयारी में है। आशीष मिश्र से पहले आशीष पांडे और लवकुश को गिरफ्तार किया गया था। आशीष पांडेय की तरफ से रामाशीष मिश्रा द्वारा जमानत अर्जी पेश की गई थी।

वकील ने सीजेएम चिंताराम को अभियुक्त का घटनाक्रम से कोई मतलब नहीं बताते हुए उसे गलत फंसाए जाने की दलील रखी। सीजेएम चिंताराम ने अभियोजन पक्ष के विरोध के बाद दोनों आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।