अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति जो बाइडन को निशाने पर लेते हुए चीन के साथ युद्ध को लेकर चेताया। ट्रंप ने आगाह करते हुए कहा कि चीन के साथ अमेरिका का युद्ध हो सकता है क्योंकि यहां अब कमजोर और भ्रष्ट सरकार होने के कारण बीजिंग अब वॉशिंगटन का सम्मान नहीं करता।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन पर हमला बोलते हुए ट्रंप ने कहा, “क्योंकि चुनाव में धांधली की गई और अमेरिका में अब कमजोर और भ्रष्ट नेतृत्व है, तो हमें चीन के साथ युद्ध का सामना करना पड़ सकता है, जो अब अमेरिका का सम्मान नहीं करता।”

गौरतलब हो कि पूर्व राष्ट्रपति की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब अमेरिका और चीन के अधिकारी दोनों देशों के बीच जारी तनाव के दौरान स्विट्जरलैंड में बैठक करने वाले हैं। राष्ट्रपति जो बाइडन ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन को चीन के विदेश नीति सलाहकार यांग जिएची के साथ वार्ता के लिए स्विट्जरलैंड भेजा है जहां दोनों देशों के बीच ताइवान और व्यापार सहित कई मुद्दों पर मतभेद चल रहा है।

ट्रंप ने अपने बयान में कहा “रेडिकल लेफ्ट डेमोक्रेट्स हमारे राष्ट्र को नष्ट कर रहे हैं और केवल चुनाव व आपराधिक गतिविधियां कर रहे हैं। ये हमेशा भ्रष्ट अभियोजकों और अभियोगों के माध्यम से दूसरे पक्ष को दोष देते हैं।

हमारा देश बड़ी मुसीबत में है। बेहतर होगा कि हम तेजी से आगे बढ़ें।” उन्होंने आगे कहा “पहली बार सबने देखा कि हमारे जनरलों ने किस तरह तालिबान के सामने सरेंडर किया, हमने 13 महान योद्धाओं को खोया।

इसके साथ ही 85 बिलियन अमरीकी डॉलर के विश्व में सबसे अच्छे और सबसे महंगे सैन्य उपकरणों को उन्हें सौंपते देखा। चीन और रूस पहले से ही इन हथियारों की रिवर्स इंजीनियरिंग कर रहे हैं ताकि वे इन्हें अपने लिए बना सकें।”

ट्रंप की सरकार के समय, ट्रेड वॉर और दक्षिण चीन सागर में चीन की मनमानी को लेकर दोनों महाशक्तियों के बीच पिछले कई सालों से तनाव चल रहा है। कोरोना महामारी को लेकर ट्रंप ने चीन पर जानबूझकर कोरोना संक्रमण फैलाने और दुनिया से सही जानकारी छिपाने का आरोप लगाया था। अपने पूरे कार्यकाल में पूर्व राष्ट्रपति चीन पर बेहद आक्रामक रहे थे।