प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता पहल के तहत एक अक्टूबर यानी आज के दिन दो बड़े अभियानों को लॉन्च करने वाले हैं। इसके तहत प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत भारत मिशन-शहरी 2.0 (SBM-U 2.0) और कायाकल्प और शहरी सुधार के लिए अटल मिशन 2.0 ( AMRUT 2.0) का शुभारंभ करेंगे।

सुबह 11 बजे डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में दोनों अभियानों को लॉन्च किया जाएगा। मौके पर आवास एवं शहरी मामलों के केन्‍द्रीय मंत्री एवं राज्य मंत्री और राज्यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों के शहरी विकास मंत्री भी मौजूद रहेंगे।

एसबीएम-यू 2.0 सभी शहरों को कचरा मुक्त बनाने और अमृत 2.0 के अंतर्गत आने वाले शहरों के अलावा अन्य सभी शहरों में धूसर और काले पानी के प्रबंधन को सुनिश्चित करने, सभी शहरी स्थानीय निकायों को ओडीएफ+ और 1 लाख से कम जनसंख्‍या वाले को ओडीएफ++ के रूप में तैयार करने की परिकल्पना करता है जिससे शहरी क्षेत्रों में सुरक्षित स्वच्छता के लक्ष्‍य को पूरा किया जा सकेगा। एसबीएम-यू 2.0 का परिव्यय लगभग 1.41 लाख करोड़ रुपए का बताया जा रहा है।

अमृत 2.0 का लक्ष्य लगभग 2.64 करोड़ सीवर/सेप्टेज कनेक्शन प्रदान करके लगभग 2.68 करोड़ नल कनेक्शन और 500 अमृत शहरों में सीवरेज और सेप्टेज का शत-प्रतिशत कवरेज करना है जिसके साथ ही 4,700 शहरी स्थानीय निकायों में सभी घरों में पेयजल की आपूर्ति का शत-प्रतिशत कवरेज प्रदान किया जा सके।

इससे शहरी क्षेत्रों में 10.5 करोड़ से अधिक लोगों को लाभ होने की उम्मीद है। अमृत 2.0 सर्कुलर इकोनॉमी के सिद्धांतों को अपनाकर सतह और भूजल निकायों के संरक्षण और कायाकल्प को बढ़ावा देगा। इसका परिव्यय लगभग 2.87 लाख करोड़ रुपये का है।

वहीं, शहरों के बीच प्रगतिशील प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने के लिए ‘पेयजल सर्वेक्षण’ भी आयोजित किया जाएगा। अमृत 2.0 को लेकर

केंद्रीय शहरी एवं आवासन कार्य मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय सहयोग और वित्त पोषण के संदर्भ में अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों के साथ भी बातचीत कर रहा है।