भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के नेता व जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी आज,28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं।

सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस नेता राहुल गांधी दोपहर करीब तीन बजे दोनों युवा नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाएंगे। हाल ही में कन्हैया कुमार ने राहुल गांधी से मुलाकात की थी जिसके बाद से ही उनके कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई थीं।

ऐसा माना जा रहा है कि कन्हैया कुमार के साथ लेफ्ट के कई और नेता भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। पिछले काफी समय से चुनावों में हार का सामना कर रही कांग्रेस पार्टी अब ये प्रयोग करके युवाओं को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश कर रही है।

इसके जरिए पार्टी अपने साथ युवाओं को जोड़ने के रणनीति पर काम करेगी। माना जा रहा है कि कन्हैया कुमार को बिहार में बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है क्योंकि बिहार राज्य में कांग्रेस पार्टी की हालत अच्छी नहीं है और पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की स्थिति और भी खराब हो गई है।

कांग्रेस के हिस्से यहां केवल 19 सीटें ही आईं तो वहीं सीपीआई ने 12 सीटों पर जीत हासिल की थी। ऐसे में कांग्रेस कन्हैया कुमार को यहां लगाने की जुगत में नजर आ रही है। गौरतलब हो कि बीते कुछ सालों में कांग्रेस के कई युवा व चर्चित नेताओं ने पार्टी का साथ छोड़ दिया है, जिनमें जितिन प्रसाद, ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रियंका चतुर्वेदी और सुष्मिता देव इत्यादि अहम नाम शामिल हैं।

ऐसा माना जा रहा है कि इस मिलन के पीछे चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के सुझाव है। उन्होंने ही राहुल गांधी को राय दी थी कि पुराने नेताओं का असर अब पार्टी में समाप्त हो गया है, इसलिए युवाओं को मौका देना चाहिए। इसलिए कन्हैया और जिग्नेश की कांग्रेस में एंट्री हो रही है। यह भी ध्यान में हो कि कन्हैया कुमार बीते डेढ़ सालों से राजनीति में कम सक्रिय रहे हैं।