उत्तर प्रदेश में पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए अपराधियों के आत्मसमर्पण का सिलसिला जारी है। ऐसा ही एक मामला सहारनपुर में देखने को मिला जहां शुक्रवार को गैंगस्टर ने कार्रवाई से बचने के लिए थाने में दोनों हाथ ऊपर कर सरेंडर कर दिया।

प्रदेश के सहारनपुर जनपद के थाना नागल में दर्जनों मुकदमों के फरार अपराधी और गैंगस्टर, अनीश ने थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण करते हुए अपराध करने से तौबा कर लिया। उसने कहा कि उसे जेल में डाल दिया जाए, अब वह कभी कोई अपराध नहीं करेगा। उसने दोनों हाथ उठाकर कबूला कि “अब मैं कोई अपराध नहीं करूंगा, पुलिस से मुझे डर लगता है।”

मामले में क्षेत्राधिकारी रजनीश कुमार उपाध्याय ने बताया कि अनीश पर दर्जनों से भी ज्यादा मुकदमे हैं। एसएसपी सहारनपुर द्वारा सत्यापन का अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें गोकशी करने वाले व अवैध शराब का धंधा करने वालों का सत्यापन कर उन पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जा रही है।

इसी के ख़ौफ के कारण थाने के टॉप 10 अपराधियों में शामिल अनीस ने आत्मसमर्पण किया। कोर्ट में पेशी के बाद उसे जेल भेजा दिया गया। उसपर जनकपुरी, थाना मंडी एवं नागल के 13 मुकदमे दर्ज हैं।

वह हाल में एनडीपीएस के मुकदमे में वांछित भी चल रहा था। पुलिस उसके घर पर गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही थी जिससे घबराकर शनिवार को अनीश ने खुद ही थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया।