दिल्ली के रोहिणी कोर्ट परिसर में शुक्रवार को गैंगवॉर हुआ जिसमें बदमाशों ने गोली मारकर दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर जितेंद्र गोगी की हत्या कर दी। इस गैंगवॉर में गोगी समेत कुल 3 लोग और मारे गए वहीं 3 से 4 लोग घायल भी हुए।

जानकारी के मुताबिक, गोगी पेशी के लिए कोर्ट में लाया गया था जहां वकील की यूनिफॉर्म में पहले से मौजूद दो शूटरों ने उस पर फायरिंग कर दी। रोहिणी कोर्ट रूम 207 में एनडीपीएस के एक मामले में जितेंद्र गोगी की पेशी थी।

मामले पर दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने बताया कि जब गैंगस्टर गोगी को कोर्ट में सुनवाई के लिए ले जाया गया तो दो अपराधियों ने उस पर गोलियां चलाईं। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में दोनों हमलावरों को मार गिराया। उनमें से एक हमलावर पर 50,000 रुपए का इनाम था।

इस घटना पर वकील ललित कुमार का कहना है कि हमलावर वकील की ड्रेस में आए थे। उन्होंने गोगी को लगातार 3 गोलियां मारीं। गोगी की सुरक्षा में जो दिल्ली पुलिस के लोग थे उन्होंने 25-30 गोलियां चलाई जिससे अपराधियों की मौत घटनास्थल पर हो गई, वहीं गोगी की अस्पताल में मौत हो गई।

ललित कुमार ने यह भी बताया कि घटना गोगी की सुनवाई के दौरान हुई। जज, स्टाफ और वकील सभी मौजूद थे। उन्होंने एक इंटर्न के पैर में भी गोली लगने की बात बताई। सुबह ठीक से चेकिंग नहीं होना और लापरवाही को उन्होंने जिम्मेदार ठहराया।

जितेंद्र उर्फ गोगी पिछले दो साल से तिहाड़ जेल में बंद था। शुक्रवार को उसे पेशी के लिए रोहिणी कोर्ट परिसर में लाया गया था जिस दौरान पहले से घात लगाए बैठे अन्य दो शूटरों ने उस पर हमला कर दिया।

कोर्ट परिसर में हुई फायरिंग के बाद इलाके को सील कर दिया गया है। पुलिस द्वारा वारदात के पीछे गैंगवार की बात कही जा रही है जिसमें गोगी के विरोधी टिल्लू गैंग के बदमाशों का हाथ होने की आशंका भी पुलिस जता रही है। टिल्लू गैंग का गोगी के साथ पुरानी दुश्मनी बताई जा रही है।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि संयुक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी रेंज) घटना की जांच कर रिपोर्ट सौंपेंगे।