उत्तर प्रदेश में होने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर से बड़ी खबर आई है। असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में अपनी पार्टी एआईएमआईएम के 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी का अभी तक सिर्फ ओमप्रकाश राजभर की पार्टी के साथ गठबंधन है।

ओवैसी ने यह बात ट्वीट करके बताई कि, “उत्तर प्रदेश चुनावों को लेकर मैं कुछ बातें आपके सामने रखना चाहूंगा-

1.हमने फैसला लिया है कि हम 100 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े करेंगे, पार्टी में उम्मीदवारों को चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी है और हमने उम्मीदवार आवेदन पत्र भी जारी कर दिया है।

2. हम ओमप्रकाश राजभर साहब “भागीदारी संकल्प मोर्चा” के साथ हैं।

3. हमारी किसी और पार्टी से चुनाव या गठबंधन के सिलसिले में कोई बात नहीं हुई है।” ओवैसी का यह ऐलान सपा, बसपा और कांग्रेस के लिए चुनौती बनकर सामने आया है क्योंकि एआईएमआईएम के इतने ज्यादा सीटों पर मैदान में उतरने से मुस्लिम वोट खिसकने का डर है। ओमप्रकाश राजभर और असुदद्दीन ओवैसी समेत दस छोटे-छोटे पार्टियों द्वारा खड़े किए गए इस मोर्चे का नाम है “भागीदारी संकल्प मोर्चा” जो कि भाजपा को सत्ता में आने से रोकने की बात कर रहा है और साथ ही चुनाव में सभी 403 सीटों पर लड़ने का ऐलान भी किया है। राजभर के मुताबिक राज्य में पांच साल में पांच जाति के सीएम और हर साल चार डिप्टी सीएम यानी कि बीस डिप्टी सीएम बनेंगे।

यह जातियां कुशवाहा,राजभर,मुसलमान,चौहान और पटेल बताई गई हैं। भाजपा के मोहसिन रजा ने पलटवार करते हुए राजभर से मुंगेरीलाल के हसीन सपने ना देखने को कह कहके इस फार्मूला को दलदल बताया।

गठबंधन की बात को लेकर बता दें कि कांग्रेस ने अभी तक  इसके ऊपर कोई टिप्पणी नहीं की है। अखिलेश यादव ने इस बार क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन की बात कही है और मायावती यह‌ साफ कर चुकी हैं कि उनकी पार्टी पंजाब में अकाली दल को छोड़कर किसी भी प्रदेश में किसी भी पार्टी के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगी।