विधानसभा से 5 दिनों के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तेजस्वी को अपना रौद्र रुप दिखा दिया। दरअसल विधानसभा में तेजस्वी ने शब्दों की मर्यादा लांघते हुए यहां तक कह दिया कि नीतीश कुमार ने दूसरी संतान सिर्फ बेटी पैदा होने के डर से नहीं जन्माई। इस दौरान तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर आपत्तिजनक टिप्पणी तक कर डाली।

इसके बाद जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बोलना शुरू किया तो वो बुरी तरह से बिफरे दिखे। तेजस्वी को नीतीश ने चार्जशीटेड और इशारों में अनुकंपा वाला उपमुख्यमंत्री तक बता दिया। नीतीश यहीं नहीं रुके, उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा से तेजस्वी के आरोपों की जांच कराने और झूठा पाए जाने पर कार्रवाई की मांग भी कर दी। इसके बाद विधानसभा में जमकर हंगामा शुरू हो गया। हाल ये था कि सदन को आधे घंटे तक के लिए स्थगित करना पड़ गया।