देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ ही हालात संभालने की कमान पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद अपने हाथों में संभाल ली है. उन्होंने कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की. इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह समेत ममता बनर्जी, विजय रूपाणी, अरविंद केजरीवाल समेत कई सीएम शामिल रहे.  

पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रदेश में कोरोना के आंकड़े बताने पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को रोका. पीएम मोदी ने उनसके आंकड़ों के बजाय आगे रणनीति बताने के लिए कहा. 


महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बैठक में कहा कि अगले साल आने वाली कोरोना वैक्सीन को लगाने के लिए राज्य में टास्क फोर्स की स्थापना कर दी गई है. उन्होंने कहा कि कोरोना टीकाकरण  के लिए उनकी सरकार लगातार सीरम इंस्टिट्यूट के आदर पूनावाला से बातचीत कर रही है. 

पश्चिम बंगाल की सीएम बनर्जी ने बैठक में कहा कि बंगाल में कोरोना मरीजों का इलाज ठीक चल रहा है. उन्होंने पीएम से GST का बकाया पैसा राज्यों को जारी करने की मांग की. ममता ने कहा कि पश्चिम बंगाल सेंसिटिव राज्य है। बांग्लादेश और भूटान की अंतर्राष्ट्रीय सीमा लगती है. वहां से मरीज बंगाल आते है. इसी तरह पड़ोस के बिहार, झारखंड, ओडिशा से मरीज आकर बंगाल में इलाज करा रहे हैं. जिससे राज्य पर बोझ बढ़ रहा है. 


दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बैठक में कहा कि शहर में कोरोना के बढ़ने की एक बड़ी वजह बढ़ता प्रदूषण है. उन्होंने पीएम मोदी से पराली मामले में दखल देने और सफदरजंग अस्पताल में आईसीयू के एक हजार बेड का इंतजाम करने की मांग की. 

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि Europe और अमेरिका में कोरोना के मामले दोबारा से बढ रहे हैं. ऐसे में हमें भी सावधान रहना है. सामाजिक दूरी के पालन पर जोर देना है और मास्क पहनना अनिवार्य करना है. 

कोरोना वायरस पर अंतिम प्रहार की तैयारी


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की. जहां पर कोरोना संक्रमण के मामले सबसे ज्यादा आ रहे हैं. अब देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बैठक होगी. इस बैठक में वैक्सीन के वितरण और महामारी से निपटने की रणनीति पर चर्चा की गई. 

देश के कुछ राज्यों में कोरोना के बढ़े मामले

बता दें कि देश भर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले पिछले कुछ दिनों से 50,000 के नीचे आ रहे हैं, लेकिन कुछ राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. देश के 5 राज्यों के बीते 5 दिनों के ट्रेंड पर नज़र डालें तो दिल्ली पहले, केरल दूसरे, पश्चिम बंगाल तीसरे, महाराष्ट्र चौथे और हरियाणा पांचवें स्थान पर बना हुआ है. जहां पर कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. 

कुल मृतकों की संख्या 1 लाख 34 हजार 218 हुई


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से मंगलवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना के 37 हजार 975 नए मामले सामने आए हैं. जिसके बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 91 लाख 77 हजार से ज्यादा हो गई है. इनमें से 86 लाख 4 हजार लोग कोरोना ने ठीक भी हो चुके हैं. देश में 480 नई मौतों के साथ कुल मृतकों की संख्या बढ़कर 1 लाख 34 हजार 218 हो गई है. 

कुल सक्रिय मामलों की संख्या 5 लाख से अब भी कम


राहत की बात ये है कि देश में इस वक्त कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या अब भी 5 लाख से कम है. देश में इस वक्त कोरोना के 4 लाख 38 हजार 667 सक्रिय मामले हैं. अच्छी बात ये है कि देश में कोरोना का रिकवरी रेट इस समय 93.76 प्रतिशत बना हुआ है. वहीं मृत्यु दर 1.46 प्रतिशत चल रही है.