• भारत के सक्रिय मामले कुल मामलों के प्रतिशत से कम
  • रिकवरी दर लगातार 93 प्रतिशत से अधिक बनी हुई है
  • पिछले 16 दिनों से रोजाना 50,000 से कम मामले सामने आ रहे हैं
  • पिछले 24 घंटों में देश में कुल 41,024 मामले मामले ठीक हुए और 44,059 व्यक्ति कोविड से संक्रमित पाए गए
  • केंद्र ने कोविड प्रतिक्रिया और प्रबंधन में राज्यों की मदद करने के लिए हिमाचल प्रदेशपंजाब और उत्तर प्रदेश में उच्च स्तरीय दल भेजे
  • प्रधानमंत्री ने कहा कि जी-20 देशों को अपनी चर्चा को सिर्फ़ अर्थव्यवस्था को पटरी पर लानेरोजगार और व्यापार तक सीमित न रखकर पृथ्वी के संरक्षण पर भी विमर्श करना चाहिए,  इसके लिए निर्णायक कार्रवाई का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि हम सभी मानवता के भविष्य के न्यासी

#Unite2FightCorona

#IndiaFightsCorona

Image

भारत के सक्रिय मामले कुल मामलों के प्रतिशत से कमरिकवरी दर लगातार 93 प्रतिशत से अधिक बनी हुई हैपिछले 16 दिनों से रोजाना 50,000 से कम मामले सामने आ रहे हैं

भारत में सामने आए कुल पॉजिटिव मामलों का इस समय सक्रिय मामला (4,43,486) 4.85 प्रतिशत है और यह कुल सक्रिय मामले का पांच प्रतिशत से कम है। रिकवरी की दर 93 प्रतिशत से ऊपर बनी हुई है क्योंकि सभी मामलों का 93.68 प्रतिशत मामले अब तक ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में देश में कुल 41,024 नई रिकवरी दर्ज की गई है जिसके साथ ही रिकवरी के कुल मामले 85,62,641 हो गए हैं। रिकवर मामलों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर लगातार बढ़ रहा है और वर्तमान में 81,19,155 है। पिछले 24 घंटों में, 44,059 व्यक्ति कोविड से संक्रमित पाए गए हैं। 8 नवंबर के बाद से पिछले 16 दिनों से भारत में 50,000 से कम मामले दर्ज किया जा रहा है। यह माना जा रहा है कि पश्चिमी गोलार्ध के कई देशों में सर्दी की शुरुआत के कारण नए मामलों की भारी वृद्धि देखी जा रही है। नई रिकवरी में से 77.44 प्रतिशत रिकवरी दस राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों से सामने आया है। केरल में कोविड से 6,227 लोग रिकवर हुए हैं। जबकि दिल्ली ने 6,154 मरीजों के रिकवर होने की सूचना है। महाराष्ट्र ने पिछले 24 घंटों में 4,060 नई रिकवरी की सूचना है। नए मामलों में से 78.74 प्रतिशत मामला दस राज्यों / केन्द्र शासित प्रदेशों से सामने आए हैं। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 6,746 मामले दर्ज किए गए। महाराष्ट्र में 5,753 नए मामले दर्ज किए गए जबकि केरल में कल 5,254 दैनिक मामले दर्ज किए गए। 15 राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश में प्रति मिलियन जनसंख्या (6,623) के राष्ट्रीय औसत से कम रिपोर्ट कर रहे हैं। पिछले 24 घंटों में मारे गए 511 मरीजों में से 74.95 प्रतिशत मामले दस राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के हैं। दिल्ली में 121 मौत हुई हैं और यह नई मृत्यु का 23.68 प्रतिशत है। महाराष्ट्र ने 50 लोगों की मौत हुई है, जबकि पश्चिम बंगाल ने 49 नई मौतें हुई हैं। 21 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में प्रति मिलियन (97) मौतों के राष्ट्रीय औसत से कम मौतें हो रही हैं।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें       

केंद्र ने कोविड प्रतिक्रिया और प्रबंधन में राज्यों की मदद करने के लिए हिमाचल प्रदेशपंजाब और उत्तर प्रदेश में उच्च स्तरीय दल भेजे

केंद्र सरकार ने कोविड प्रतिक्रिया और प्रबंधन में राज्यों की मदद करने के लिए उत्तर प्रदेश, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में उच्च स्तरीय केंद्रीय दलों की प्रतिनियुक्ति करने का फैसला किया है। इन राज्यों में या तो सक्रिय मामलों की संख्या में वृद्धि हो रही है यानी उन लोगों की संख्या बढ़ रही है जो बीमारी की वजह से अस्पतालों में भर्ती हैं या जो चिकित्सा निगरानी में घर में अलग-थलग रखे गए हैं, या जहां हर दिन कोविड संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। ये तीन सदस्यीय दल उन जिलों का दौरा करेंगे जहां कोविड के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं और रोकथाम, निगरानी, जांच, संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण उपायों, और कोविड संक्रमण के मामलों के कुशल नैदानिक प्रबंधन की दिशा में राज्य के प्रयासों में मदद करेंगे। केंद्रीय दल राज्यों का, समय पर बीमारी की पहचान और उसके बाद के इलाज से संबंधित चुनौतियों से प्रभावी तरीके से निपटने में भी मार्गदर्शन करेंगे। इससे पहले केंद्र सरकार ने हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, मणिपुर, और छत्तीसगढ़ में उच्च स्तरीय दल भेजे थे।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

डॉ. हर्षवर्धन ने स्‍वास्‍थ्‍य और मानव विकास के क्षेत्र में काम करने वाले बोस्‍टन सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस को संबोधित किया

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने स्‍वास्‍थ्‍य और मानव विकास के क्षेत्र में काम करने वाले बोस्‍टन सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस को आज वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। उन्‍होंने बोस्‍टन सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस (बीओसीई) और हेल्‍थ एंड ह्यूमेन डेवल्‍पमेंट को इस बात के लिए बधाई दी कि उसने मानव मात्र के लिए बेहतर उपचार और बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल के विषय में अनुसंधान के लिए विशेषज्ञों को एक साथ एकत्र किया। डॉ. हर्षवर्धन ने मौजूदा महामारी की तुलना हमारी सभ्‍यता के अस्‍थायी दौर से की। उन्‍होंने कहा, ‘हमने स्‍पेनिश फ्लू, पहला विश्‍व युद्ध और दूसरा विश्‍व युद्ध नहीं देखा लेकिन हम इस समय एक मौन युद्ध के दौर में जी रहे हैं। इससे अब तक 10 करोड़ लोग मारे जा चुके हैं और कई मामलों में बहुत से लोगों के अंतिम समय में उनके करीबी रिश्‍तेदार भी उनके पास नहीं थे। उनके अंतिम संस्‍कार में भी उनके परिजन उपस्थित नहीं रह सके और ऐसे लाखों लोग जो ठीक हो गए उन्‍हें बहुत सारी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं और वित्‍तीय संकट से भी गुजरना पड़ रहा है।’ इस संबंध में डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘यह कोई पहली बार नहीं है और न ही अंतिम बार है। लेकिन यह कोविड-19 महामारी जल्‍दी ही 21वीं सदी का भूला बिसरा अध्‍याय हो जाएगी। कोविड रोगियों के उपचार का हमारा प्रोटोकॉल अब पूरी तरह स्‍पष्‍ट है। इससे संक्रमित होने वाले रोगियों की मृत्‍युदर धीरे-धीरे कम होती जा रही है। जल्‍दी ही हमें इसकी वैक्सिन मिल जाएगी और अगले कुछ महीनों में मामलों की संख्‍या में भारी गिरावट आ जाएगी।’ डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि हालांकि कोविड-19 महामारी ने लाखों लोगों, व्‍यवसायों और व्‍यापार पर बहुत ही प्रतिकूल असर डाला है लेकिन भारत ने इस आपदा को अवसर में बदलने के लिए कुछ ऐसे कदम उठाए हैं जिन्‍हें अंधेरे में आशा की किरण माना जा सकता है।

 ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

प्रधानमंत्री ने संसद सदस्‍यों के लिए बहुमंजिले फ्लैटों का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्‍यम से संसद सदस्‍यों के लिए बहुमंजिले फ्लैटों का उद्घाटन किया। ये फ्लैट नई दिल्‍ली में डॉ. बी. डी. मार्ग पर बनाए गए हैं। 80 साल से भी अधिक पुराने आठ बंगलों को फिर से विकसित करके 76 फ्लैट बनाए गए हैं। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि संसद सदस्‍यों के लिए बहुमंजिले फ्लैटों में हरित भवन मानकों को शामिल किया गया है। उन्‍होंने आशा व्‍यक्‍त की कि ये फ्लैट सभी निवासियों और संसद सदस्‍यों को सुरक्षित रखेंगे। उन्‍होंने कहा कि सांसदों के लिए आवासीय समस्‍या काफी पुरानी थी, लेकिन अब यह सुलझा ली गई है। उन्‍होंने कहा कि दशकों पुरानी समस्‍याएं टालने से खत्‍म नहीं होतीं, बल्कि समाधान निकालने से खत्‍म होती हैं। उन्‍होंने दिल्‍ली में ऐसी अनेक परियोजनाओं का हवाला दिया, जो वर्षों से अधूरी थीं और इस सरकार ने उन्‍हें निश्चित समय से पहले पूरा किया। उन्‍होंने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में अंबेडकर राष्‍ट्रीय स्‍मारक पर विचार-विमर्श प्रारंभ हुआ था और 23 वर्षों की लंबी प्रतीक्षा के बाद इस सरकार ने स्‍मारक बनवाया। उन्‍होंने कहा कि केन्‍द्रीय सूचना आयोग का नया भवन, इंडिया गेट के निकट युद्ध स्‍मारक और राष्‍ट्रीय पुलिस स्‍मारक का निर्माण इस सरकार ने किया, जो काफी समय से लंबित था।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

भारत भविष्य के लिए प्रभावी लागत और अभिनव स्वास्थ्य देखभाल समाधान सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा: श्री पीयूष गोयल

वाणिज्य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल ने अस्पतालों, डॉक्टरों और कोरोना योद्धाओं की प्रशंसा करते हुए कहा है कि वे वास्तव में सबसे अधिक प्रशंसा के पात्र हैं। भारतीय उद्योग परिसंघ के एशिया हेल्थ 2020 शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। कोविड वैक्सीन के बारे में बताते हुए, श्री गोयल ने कहा कि हमारे देश में वैक्सीन का तेजी से विकास हो रहा है। सार्वजनिक-निजी साझेदारी में काम करते हुए हम 130 करोड़ से अधिक भारतीयों को उचित कोविड स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा कि इस  लड़ाई में सफलता सुनिश्चित है। श्री गोयल ने कम विकसित देशों और गरीबों सहित सभी को सस्ती कीमत पर टीका सुनिश्चित करने के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि यह हम सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है। भारत भविष्य के लिए प्रभावी  लागत और अभिनव स्वास्थ्य देखभाल समाधान सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सांसदों के लिए बहुमंजिला फ्लैटों के उद्घाटन पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

प्रधानमंत्री ने उत्‍तर प्रदेश विंध्‍याचल क्षेत्र में ग्रामीण पेयजल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज उत्‍तर प्रदेश के विंध्‍याचल क्षेत्र के मिर्जापुर और सोनभद्र जिलों में ग्रामीण पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आधारशिला रखी। प्रधानमंत्री ने इस दौरान ग्रामीण जल एवं स्‍वच्‍छता समिति/पानी समिति के सदस्‍यों से भी संवाद किया। केन्‍द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्‍द्र सिंह शेखावत, उत्‍तर प्रदेश की राज्‍यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल और उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री श्री योगी आदित्‍यनाथ इस अवसर पर उपस्थित थे। प्रधानमंत्री ने आज जिन परियोजनाओं की आधारशिला रखी, उनसे 2995 गांवों के सभी घरों में जल-नल कनेक्‍शन पहुंचेंगे और इनसे जिलों की करीब 42 लाख की आबादी को लाभ होगा। इन सभी गांवों में ग्रामीण जल एवं स्‍वच्‍छता समितियों/पानी समितियों का गठन किया गया है, जो इसके परिचालन और रखरखाव की जिम्‍मेदारी संभालेंगी। इन परियोजनाओं की कुल अनुमानित लागत 5,555.38 करोड़ रुपए है। परियोजनाओं को 24 महीनों में पूरा करने की योजना है। इस अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि जल जीवन मिशन की शुरूआत के बाद पिछले डेढ़ साल में दो करोड़ 60 लाख से ज्‍यादा परिवारों को पेयजल कनेक्‍शन मुहैया कराए गए हैं, इनमें उत्‍तर प्रदेश के कई लाख परिवार भी शामिल हैं। उन्‍होंने कहा कि जल जीवन मिशन के कारण हमारी माताओं और बहनों का जीवन आसान हुआ है क्‍योंकि उन्‍हें अपने घर में आसानी से पानी मिल रहा है।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

15वां जी-20 शिखर सम्‍मेलन

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 21-22 नवंबर 2020 को सऊदी अरब द्वारा आयोजित 15वें जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इस शिखर सम्मेलन में 19 सदस्य राष्ट्रों से संबंधित शासनाध्यक्षों / राष्ट्राध्यक्षों, यूरोपीय संघ, अन्य आमंत्रित देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने हिस्सा लिया। कोविड-19 महामारी के मद्देनजर यह शिखर सम्मेलन वर्चुअल माध्यम से संचालित किया गया था। प्रधानमंत्री ने सऊदी अरब के शासक और उनके नेतृत्व को इस वर्ष जी-20 की सफल अध्यक्षता के लिए बधाई दी तथा 2020 में कोविड-19 महामारी द्वारा उत्पन्न चुनौतियों और बाधाओं के बावजूद वर्चुअल माध्यम से दूसरे जी-20 शिखर सम्मेलन का सफल आयोजन करने के लिए सराहना की। सऊदी अरब की अध्यक्षता के तहत आयोजित इस शिखर सम्मेलन का मुख्य विषय था- सभी को 21वीं सदी में अवसर प्रदान करना। इस सम्मेलन में मुख्य रूप से कोविड-19 महामारी से निपटने पर अधिक ध्यान केन्द्रित किया गया। दो दिन के इस शिखर सम्मेलन के मुख्य एजेंडा के अनुसार दो सत्र आयोजित किये गए। इस दौरान कोविड महामारी पर काबू पाने, आर्थिक सुधार लाने और नौकरियों को बहाल करने तथा एक समावेशी, टिकाऊ और लचीला भविष्य बनाने पर ध्यान केंद्रित किया गया। इसके अलावा इन दो दिनों में महामारी से निपटने की तैयारियों और विश्व की सुरक्षा पर चर्चा की योजनाएं भी इसका हिस्सा हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कोरोना महामारी मानव इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ है और कोविड महामारी दूसरे विश्व युद्ध के बाद की सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि जी-20 देशों को अपनी चर्चा को सिर्फ़ अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने, रोजगार और व्यापार तक न रखकर पृथ्वी के संरक्षण पर भी विमर्श करना चाहिए। उन्होंने इसके लिए निर्णायक कार्रवाई का आह्वान किया और कहा कि हम सभी मानवता के भविष्य के न्यासी हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना से उबरने के बाद नया वैश्विक सूचकांक बनाने की आवश्यकता होगी, जिसमें चार प्रमुख तत्व शामिल हैं। इसके अनुसार प्रतिभाओं का विशाल पूल का निर्माण हो, तकनीक की पहुंच समाज के हर वर्ग तक हो जाये, पारदर्शी शासन व्यवस्था हो और पृथ्वी के संरक्षण का भाव हो। इन चारों बातों का ध्‍यान में रखकर ही जी-20 के देश एक नए विश्व की आधारशिला रख सकते हैं।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

जी-20 सम्मेलन में प्रधानमंत्री के सम्बोधन के अंश: पृथ्वी का संरक्षण: सीसीई पर कायम

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

 प्रधानमंत्री ने गुजरात के गांधीनगर में पंडित दीनदयाल पेट्रोलियम विश्वविद्यालय के 8वें दीक्षांत समारोह में भाग लिया

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के गांधीनगर में पंडित दीनदयाल पेट्रोलियम विश्वविद्यालय के 8वें दीक्षांत समारोह में भाग लिया। उन्होंने 45 मेगावाट के उत्पादन संयंत्र मोनोक्रिस्टलाइन सोलर फोटोवोल्टिक पैनल और जल प्रौद्योगिकी उत्कृष्ठता केन्द्र की आधारशिला रखी। उन्होंने विश्वविद्यालय में ‘अभिनव और उद्भवन केन्द्र-प्रौद्योगिकी व्यापार इनक्यूबेशन’, ‘ट्रांसलेशनल अनुसंधान केन्द्र’ और ‘खेल परिसर’ का भी उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसे समय में स्नातक होना आसान बात नहीं है जब विश्व इतने बड़े संकट का सामना कर रहा है, लेकिन उनकी क्षमताएं इन चुनौतियों से बहुत बड़ी हैं। उन्होंने कहा कि छात्र इस उद्योग में ऐसे समय में प्रवेश कर रहे हैं जब महामारी के कारण दुनिया भर में ऊर्जा क्षेत्र में व्यापक बदलाव हो रहे हैं।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

पंडित दीनदयाल पेट्रोलियम विश्वविद्यालय के 8 वें दीक्षांत समारोह पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

15 राज्‍यों में 27 ई-लोक अदालतों का आयोजनजून से अक्‍टूबर2020 तक 2.51 लाख मामले निपटाए गए

महामारी के कारण कठिनाई की अवधि में न्‍यायिक सेवा प्राधिकारियों ने नये नॉर्मल को अपनाया और लोक अदालत को वर्चुअल प्‍लेटफार्म पर आए। जून 2020 से अक्‍टूबर 2020 तक 15 राज्‍यों में 27 ई-लोक अदालतें आयोजित की गई, जिनमें 4.83 लाख मामलों की सुनवाई हुई और 1409 करोड़ रुपये के 2.51 लाख मामलों का निष्‍पादन किया गया। नवम्‍बर, 2020 के दौरान अभी तक उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड और तेलंगाना में ई-लोक अदालतें आयोजित की गई है, जिनमें 16,651 मामलों की सुनवाई हुई और 107.4 करोड़ रुपये के 12,686 विवादों का निपटान किया गया। वैश्विक महामारी ने मूल रूप से न्‍यायिक सेवा संस्‍थानों के कामकाज के तरीकों को बदल दिया है। कोविड-19 तथा विभिन्‍न सार्वजनिक स्‍वास्‍थ्‍य दिशा-निर्देशों की कठिनाइयों के बीच न्‍याय तक पहुंच में सहायता देने के लिए न्‍यायिक सेवा अधिकारियों ने न्‍याय देने की परम्‍परागत पद्धति से स्‍वदेशी एकीकृत टैक्‍नोलॉजी को जोड़ दिया। ऑनलाइन लोक अदालत,यानी ई-लोक अदालत न्‍यायिक सेवा संस्‍थानों का एक नवाचार है, जिसमें अधिकतम लाभ के लिए टैक्‍नोलॉजी का उपयोग किया गया है। यह घर बैठे लोगों को न्‍याय देने का प्‍लेटफार्म बन गया है। ई-लोक अदालतों के आयोजनों में खर्च कम होते है, क्‍योंकि संगठन संबंधी खर्चों की जरूरत समाप्‍त हो जाती है।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी कोविड-19 के प्रसार के नियंत्रण के लिए सभी दिशा-निर्देशों का पालन कर रही है

20 नवंबर, 2020 से अब तक लाल बहादुर शास्त्री प्रशासन अकादमी में 57 प्रशिक्षु अधिकारी कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। प्रशासनिक सेवा में चुने गए नए प्रवेशियों के लिए आयोजित 95वें फाउंडेशन पाठ्यक्रम के लिए कैंपस में कुल 428 प्रशिक्षु अधिकारी हैं। अकादमी गृह मंत्रालय और देहरादून के ज़िला प्रशासन के दिशा-निर्देशों के अनुरूप कोविड-19 के प्रसार की श्रृंखला को तोड़ने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है। कोविड पॉजिटिव पाए गए सारे प्रशिक्षु अधिकारी को विशेष कोविड केयर सेंटर में क्वारंटीन किया गया है। 20 नवंबर 2020 से अकादमी ने जिला अधिकारियों के साथ समन्वय से 162 से अधिक आरटी-पीसीआर टेस्ट किए हैं। अकादमी ने निर्णय लिया है कि ट्रेनिंग सहित सारी गतिविधियां 3 दिसंबर 2020 की रात तक ऑनलाइन ही रहेंगी।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

एपीईडीए ने भारत के कृषि उत्पादों के प्रचार के लिए संभावित आयातक देशों के साथ खरीददारों और विक्रेताओं की वर्चुअल बैठकें आयोजित कीं

भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीईडीए) निर्यात को बढ़ावा देने वाली अनेक गतिविधियों, जैसे अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेताओं की बैठकें आयोजित कर, संभावित आयातक देशों में होने वाले अग्रणी व्यापार आयोजनों में निर्यातकों की भागीदारी और विशिष्ट बाज़ारों में उत्पादों के प्रचार के लिए कार्यक्रमों के माध्यम से अपने अनुसूचित उत्पादों के निर्यात को सुगम बनाता है। इस तरह के कई कदमों ने न केवल भारतीय कृषि उत्पादों को वैश्विक रूप से लोकप्रिय बना दिया, बल्कि निर्यातकों को विश्व बाज़ार तक पहुंचने में मदद भी की है। कोविड-19 महामारी के दौरान एक-दूसरे के साथ मिलकर बैठक करना और बाज़ार के प्रचार से जुड़े कार्यक्रम संभव नहीं थे। कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों में, एपीईडीए ने वर्चुअल माध्यम को अपनाया और विदेशों में भारतीय मिशनों के साथ सहभागिता कर अनेक वर्चुअल क्रेता-विक्रेता बैठकें (वीबीएसएम) आयोजित कीं और इस तरह निर्यात को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों को जारी रखा। अप्रैल से अक्तूबर 2020 तक, एपीईडीए ने अपने सभी उत्पादों के प्रचार के लिए यूएई, दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया, कुवैत और ईरान जैसे संभावित आयातक देशों के साथ कई वर्चुअल क्रेता-विक्रेताओं की बैठकें (वीबीएसएम) आयोजित कीं।

ज्यादा जानकारी के लिए पढ़ें

पीआईबी के स्थानीय कार्यालयों से प्राप्त जानकारी

  • अरुणाचल: पिछले चौबीस घंटों में अरुणाचल प्रदेश में 24 नए पॉजिटिव मामलों का पता चला है। राज्य में कुल 1,040 सक्रिय पॉजिटिव मामले है।
  • असम: असम में आज 9,994 कोविड परीक्षण किये गए जिनमें 0.86 प्रतिशत की पॉजिटिव दर के साथ 86 नए मामले सामने आये। जबकि अब तक 2,07,394 मरीजों को छुट्टी दी गई है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट कर बताया की राज्य में कुल मामलो की संख्या 2,11,513 है।
  • नागालैंड: 103 नए मामलों के साथ, नागालैंड में कोविड के कुल मामलों की संख्या 10,777 तक पहुंच गई है। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 1,406 हैं।
  • सिक्किम: राज्य में 31 नए मामलों का पता चलने के साथ ही राज्य में कोविड – 19 के कुल मामले 4,722 तक पहुंच गए है।
  • महाराष्ट्र: कोविड -19 की दूसरी लहर की तुलना सुनामी से करते हुए, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के लोगों से वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई में ढिलाई नहीं बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा कि लोगों को मास्क पहनने, शारीरिक दूरी बनाए रखने और हाथ धोना जारी रखना चाहिए और कोविड नियमों को ले कर किसी तरह की ढिलाई नहीं दिखानी चाहिए। राज्य में कोविड के मामलों में गिरावट के बाद एक बार फिर रिवर्स ट्रेंड देखा जा रहा है  और मामले एक बार फिर से बढ़ रहे हैं।
  • गुजरात: गुजरात के, अहमदाबाद शहर में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड से 8 लोगों की मौत हो गई है, जो पिछले पांच महीनों के दौरान सबसे अधिक है। राज्य में रविवार को 13 मौतों की सूचना मिली थी जो पिछले 2 महीनों के दौरान एक दिन में सबसे अधिक है। अहमदाबाद शहर में ताजा कोविड के मामलों में तेजी के बाद, मौतो  का बढ़ना राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए भी चिंता का विषय है। गुज़रात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपानी ने घोषणा की है कि आज से राज्य के केवल चार प्रमुख शहरों में रात का कर्फ्यू लागू रहेगा । एक बयान में, उन्होंने कहा कि अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा और राजकोट में आज से रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक दैनिक रात का कर्फ्यू रहेगा। उन्होंने लोगों से अनिवार्य रूप से मास्क लगाने और सामाजिक दूरी के मानदंडों का सख्ती से पालन करने की अपील की। इस बीच, तीन सदस्यीय केंद्रीय टीम ने कल शाम गांधीनगर में मुख्यमंत्री के साथ बैठक की।
  • राजस्थान: मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने राज्य में कोरोनोवायरस की स्थिति पर एक समीक्षा बैठक की और अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी दिशानिर्देशों और आदेशों का पालन सुनिश्चित करें। उन्होंने अधिकारियों को जुर्माने की राशि बढ़ाने का निर्देश दिया। शादियों जैसे किसी भी कार्यक्रम में 100 से अधिक लोग इकट्ठा होते हैं तो जुरमाना राशि 10,000 से बढ़ा कर 25,000 रुपये किया गया है। राज्य मंत्रिमंडल ने शनिवार रात को आठ जिलों में रात का कर्फ्यू लगाने का फैसला किया, जहां मामलों की संख्या सर्वाधिक है। यह कर्फ्यू  रविवार से लागु है। जयपुर, जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर और भीलवाड़ा मुख्यालयों में बाजार, रेस्तरां, शॉपिंग मॉल और अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान शाम 7 बजे बंद हो जायेंगे। इन जिला मुख्यालयों में कर्फ्यू रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगा।
  • मध्य प्रदेश: राज्य में 85 प्रतिशत कोरोना के नए मामले शहरी क्षेत्रों से और 15 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों से आ रहे हैं। इसका कारण शहरी क्षेत्रों में जनसंख्या का उच्च घनत्व है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं से कोविड -19 के दिशानिर्देशों में लापरवाही नहीं बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सभी निवारक उपायों को अपनाया जाना चाहिए क्योंकि कोरोना संक्रमण में युवा लोगों का प्रतिशत अधिक है, जबकि राज्य में अभी तक केवल 10 प्रतिशत बुजुर्ग ही संक्रमित हैं। इस बीच, पिछले 24 घंटों में 1,798 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में कोविड -19 मामलों की संख्या लगभग 1.93 लाख हो गई। मध्य प्रदेश में अब 11, 765 सक्रिय मामले हैं।
  • छत्तीसगढ़: कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार की जांच के प्रयासों के तहत छत्तीसगढ़ में राज्य की राजधानी रायपुर में, होटलों और कर्मचारियों के ग्राहकों के रेंडम कोविड-19 परीक्षण किये जाएंगे। इसके अलावा, फलों और सब्जी बेचने वालों का कोविड परीक्षण भी किया जाएगा। जिला कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग को रायपुर की घनी आबादी वाली झुग्गियों में शिविर लगाकर परीक्षण करने के भी निर्देश दिए हैं। इस बीच, कलेक्टर ने जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के उस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है, जिसमें बाहर से आने वाले लोगों के कोविड परीक्षण के लिए रायपुर शहर के प्रवेश स्थलों पर केंद्र स्थापित करने के लिए कहा गया था। कलेक्टर ने ट्रैफिक जाम की संभावना को देखते हुए इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है।
  • गोवा: गोवा में कोरोनोवायरस के 78 मामलों के साथ रविवार को राज्य में कुल मामलों की संख्या 46,826 पहुंच गई है। दिन के दौरान संक्रमण के कारण दो मरीजों की मौत होने से राज्य में मरने वालों की संख्या 677 हो गई है। रविवार को 167 लोगों को छुट्टी मिलने के साथ राज्य में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 44,979 हो गई है। गोवा में सक्रिय मामलों की संख्या अब 1,170 है। रविवार को कुल 1,139 नमूनों का परीक्षण किया गया।
  • केरल: राज्य सरकार ने वैक्सीन निर्माण इकाइयों की स्थापना की संभावनाओं का पता लगाने के लिए एक पाँच सदस्यीय समिति का गठन किया है। ये इकाइयां दवा कंपनियों के दवा निर्माण लाइसेंस के साथ काम करेंगी। भारत सरकार के उपक्रम एचएलएल लाइफ केयर लिमिटेड ने कोविड परीक्षण को आसान बनाने के लिए राज्य की राजधानी में एक मोबाइल कियोस्क सुविधा शुरू की है। यह सुविधा वरिष्ठ नागरिकों और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के चलते बाहर नहीं जा पा रहे लोगों के लिए सहायक होगी। इस बीच राज्य में कोविड से ठीक होने वाले लोगो की संख्या 5 लाख के आंकड़े के पास पहुँच गई है जो वर्तमान में 4,94,664 है। राज्य में रविवार को 5,254 नए मामले सामने आए। राज्य में कोविड से मौतों का आंकड़ा 2,049 हो गया है।
  • तमिलनाडु: राजस्व मंत्री आर.बी.उधायकुमार ने आज कहा कि चक्रवात निवार का सामना करने के लिए सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई है। उन्होंने कहा की चक्रवात निवार चक्रवात गाजा जितना गंभीर नहीं है, जो 2018 में उत्तर-पूर्व मानसून के दौरान तमिलनाडु से टकराया था। उन्होंने ने कहा की कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए राहत शिविरों में विशेष ध्यान दिया जाएगा। राज्य में कल 1655 नए मामले सामने आये है, 2010 को छुट्टी दी गई है और 19 मौतें दर्ज की गईं। 12,542 सक्रिय मामलों और 11,605 लोगों की मौत के साथ राज्य में अब तक कुल 7,69,995 मामले सामने आये हैं।
  • कर्नाटक: राज्य सरकार ने 31 दिसंबर, 2020 तक स्कूल और प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज नहीं खोलने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में आज यह निर्णय लिया गया। कोविड की स्थिति की समीक्षा करने और वर्तमान शैक्षणिक वर्ष के लिए फिर से स्कूल खोलने पर अंतिम निर्णय लेने के लिए दिसंबर के अंतिम सप्ताह में फिर एक बैठक करने का भी निर्णय लिया गया है।
  • आंध्र प्रदेश: डब्ल्यूएचओ के प्रमुख वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन का मानना है कि भारत में जल्द ही कोरोना के लिए टीका विकसित करने की क्षमता है। रविवार को अनंतपुर जिले के पुट्टपर्थीप्रशांति निलयम में सत्यसाई इंस्टीट्यूट ऑफ हायर लर्निंग के 39वें स्नातक समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने ये बात कही। आंध्र प्रदेश के स्कूल जो कक्षा 9 और 10 के छात्रों के लिए 2 नवंबर से फिर से खोले गए थे, उनमें  आज से 8वीं कक्षा के छात्रों के लिए कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं। कक्षा 8 और 9 के लिए वैकल्पिक दिनों में कक्षाएं आयोजित की जाएंगी, जबकि कक्षा 10 के लिए कक्षाएं कोविड प्रोटोकॉल के साथ दैनिक होंगी।
  • तेलंगाना: पिछले 24 घंटों में तेलंगाना में 602 नए मामले आये, 1015 लोग ठीक हुए और 3 लोगों की मौत हुई। राज्य में कुल मामले 2,64,128 है और सक्रिय मामले 11,227 है। कुल मौतों की संख्या 1433 है जबकि डिस्चार्ज मामले 2,51,468 है। राज्य में 95.20 प्रतिशत की रिकवरी दर है, जबकि देश भर में रिकवरी दर 93.7 प्रतिशत है।

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

Image