पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार की देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला में, जिसका शीर्षक था,”भारत के छिपे रत्न” 21 नवंबर, 2020 को भारत के छिपे हुए रत्नों पर केंद्रित था। भारत वास्तव में एक झांकी की तरह है, जो हर मोड़ पर आपके सामने रंग, भोजन और संस्कृति का एक अलग परिदृश्य पेश करेगा। यह एक भारत श्रेष्ठ भारत की भावना को भी प्रेरित करता है। इसका अनुभव करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि जितना हो सके सड़क मार्ग से उन गंतव्यों की यात्रा करें जो इंटरनेट पर लोकप्रिय नहीं हैं।

सुश्री बिंदू मेनन, एक प्रवासी पुनर्वास प्रबंधक, एक अंतर सांस्कृतिक प्रशिक्षक और पेशे से एक ब्रांड संचार विशेषज्ञ, एक भाषाविद्, भारत को बढ़ावा देने वाली, एक उत्साही यात्री और जुनून से लेखक द्वारा वेबिनार प्रस्तुत किया गया। बिंदू ने हर अवसर पर भारत को दुनिया के सामने प्रस्तुत करने में प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने अपनी प्रस्तुति एक पंक्ति “जीवन अधिक रोमांचक होता है जब कोई रोज़मर्रा के रास्ते से दूर होकर, साहसिक नए क्षितिज की तलाश करता है” के साथ शुरू की थी ।

यात्रा अमराम्बलम, नीलाम्बुर से शुरू हुई, जो केरल के उत्तर में स्थित है। नीलाम्बुर, केरल के मलप्पुरम जिले में चलियार नदी के किनारे बसा एक छोटा सा शहर है। यह स्थान ‘कनॉलिस प्लॉट’ या दुनिया के सबसे पुराने टीक वृक्षारोपण के लिए प्रसिद्ध है। केरल में पहली रेलवे लाइन सागौन की ढुलाई के लिए बनाई गई थी। पर्यटक शोरनुर से नीलाम्बुर तक एक अद्भुत ट्रेन की सवारी का आनंद ले सकते हैं। इस स्थान पर चलियार नदी पर एक लटकता हुआ पुल भी है। पश्चिमी घाटों में न्यू अमराम्बलम वन को आरक्षित वन घोषित किया गया था I यह मूल चोलानिकान जनजातियों का घर है। पर्यावरण के प्रति उत्साही अमारा वन्यजीव अभयारण्य का भी आनंद ले सकते हैं जो भारत का 18 वां वन्यजीव अभयारण्य है।

ग्रेट हॉर्नबिल रिसॉर्ट्स, एक सेवानिवृत्त बैंकर और उनके बेटे की संपत्ति, अमराम्बलम, नीलाम्बुर, केरल में स्थित है। ग्रेट हॉर्नबिल (वज़हंबल) केरल का आधिकारिक पक्षी भी है। यह 7 एकड़ से अधिक की जैव विविधता वाला हॉटस्पॉट है जो दो पहाड़ों के बीच स्थित हैऔर तीन ओर से जंगल से घिरा है। पृष्ठभूमि के रूप में शक्तिशाली पहाड़ों के साथअमराम्बलम वन जो चोलानीकर जनजाति का निवास है,  औषधीय गुणों के साथ बारहमासी ताजे पानी की धारा,  सैकड़ों तितलियों, लाखों जुगनू और चारों ओर असाधारण पौधों, पूरी तरह से स्थायी वनस्पति उद्यान और बहुत कुछ,  यह निश्चित रूप से एक रहस्यमय स्वर्ग है I 

सुश्री बिन्दु मेनन हमें वर्चुअली अमराम्बलम से दूधसागर वृक्षारोपण के लिए ले गयीं। दूधसागर माण्डवी नदी पर स्थित 4 परतों वाले झरनों के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जो दूध के गैलन की तरह नीचे गिरते हैं। इसे अमरावती एक्सप्रेस से बेहतर तरीके से देखा जा सकता है। इस संपत्ति का स्वामित्व और प्रबंधन मल्कर्नेकर के द्वारा किया जाता हैI उन्होंने पश्चिमी घाट की ओर राज्य के पूर्वी भाग में स्थित बंजर भूमि का एक टुकड़ा खरीदा था। अब यह गोवा के अंदर एक हराभरा रमणीय स्थल है। 

दूधसागर वृक्षारोपण, गोवा काजू के बागान, एक मसाला उद्यान, एक उष्ण कटिबंधीय ताड़ का बगीचा,एक प्राकृतिक मार्ग और एक अद्वितीय प्राकृतिक तालाब के साथ 50 एकड़ की संपत्ति है I मल्कर्नेकर जो संपत्ति के मालिक हैं और उसका प्रबंधन करते हैं यह सुनिश्चित करते हैं कि उनके मेहमान प्रकृति के बीच में ग्रामीण जीवन का आनंद अनुभव करें।

पर्यटन के महत्वपूर्ण आकर्षण भगवान महावीर वन्यजीव अभयारण्य, ब्रगांजा हाउस, 12 वीं शताब्दी का मंदिर- तांबड़ी सुरला मंदिर आदि।

तीसरा छिपा हुआ रत्न सेव फार्म्स, दहानु, महाराष्ट्र था। श्री प्रभाकर सेव ने पर्यावरण के लिए अपना जीवन समर्पित किया। तारपा एग्रो इको टूरिज्म सेव फ़ार्म का एक अद्भुत उद्यम है। तारपा का नाम वारली जनजातीय संगीत वाद्ययंत्र के नाम पर रखा गया है। सेव फार्म महाराष्ट्र राज्य के उत्तर कोंकण क्षेत्र में,  मुंबई से लगभग 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इसकी स्थापना 1970 में, एक बंजर भूमि पर की गई थी। एक बंजर और क्षीण भूमि को उपवन के रूप में विकसित करना एक बड़ी चुनौती थी जिसे आज देखा जा सकता है और नारियल, एवोकैडो मसाले और 400 अन्य पौधों की किस्मों का आनंद ले सकते हैं I वेग्रामीण परिवेश में साहसिक गतिविधियों का आयोजन भी करते हैं।यहां लोगों को ग्रामीण जीवन की खोज करने और सीखने, घूमने लोगों के लिए एक मिनी संग्रहालय,  जैम, अचार आदि घर ले जाने का अवसर भी मिलता है I

इन तीन छिपे हुए रत्नों के बीच सामान्यता यह है कि प्रत्येक को पिता और पुत्र की जोड़ी द्वारा चलाया जाता है’; जो प्रकृति को वापस देने के लिए समान रूप से भावुक हैं।

वेबिनार को समाप्त करते हुए रुपिंदर बराड़, अतिरिक्त महानिदेशक ने भारत की विविधता के साथ विभिन्न बोलियों, संस्कृति, भोजन आदि और एक यात्री को मिलने वाला अद्भुत अनुभव है के बारे में बात की। भारत महिला यात्रियों के लिए भी सुरक्षित है जब तक वे अंधेरे के बाद अकेले बाहर निकलने से बचती हैं I

देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला को राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस विभाग, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ तकनीकी साझेदारी में प्रस्तुत किया गया है I 

वेबिनार के सत्र  पर और पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार के सभी सोशल मीडिया हैंडल पर भी उपलब्ध हैं।

साहसिक कार्यों पर अगला वेबिनार 28 नवंबर, 2020 को सुबह 11.00 बजे निर्धारित किया गया है।