मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आज भोपाल में ‘गौ  कैबिनेट’ की पहली बैठक की है। राज्य सरकार ने राज्य में गायों की सुरक्षा के लिए कैबिनेट का गठन करने का निर्णय लिया है।

‘गौ कैबिनेट’ की बैठक पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा,’पशुपालन विभागों के मंत्री और प्रिंसीपल सेक्रेटरी के साथ मिलकर एक मंत्री परिषद की समिति बनाई गई है जो गो संरक्षण-संवर्धन का काम करेगी। इसे केवल पशुपालन विभाग द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।’ 

इसके अलावा एक इंस्टाग्राम पोस्ट के माध्यम से इस बारे देते हुए लिखा,’निवास पर गोपाष्टमी के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की प्रथम गौ-कैबिनेट की बैठक ली। खेती और गाय का नाता ऐसा है कि जिसको एक-दूसरे से अलग किया ही नहीं जा सकता है।

गौ-संरक्षण व संवर्धन के लिए हम कृषि विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण व संबंधित सभी विभागों का सहयोग लेंगे। जो भी विभाग उपयोगी हो सकते हैं, उनको जोड़ेंगे और गौ संरक्षण के लक्ष्य को प्राप्त करेंगे।

गौ-वंश के संरक्षण और संवर्धन का काम श्रद्धा के कारण भी हम कर रहे हैं। साथ ही पर्यावरण बचाने, फसलों का उत्पादन बढ़ाने, तथा कुपोषण दूर करने के लिए भी हम यह कार्य कर रहे हैं। गौ-काष्ठ बनाकर हम उसका उपयोग हम अंतिम संस्कार में कर सकते हैं।

कंडे और खाद भी बिकते हैं। गौ-मूत्र से कीटनाशक एवं कई औषधियां भी बनाई जाती हैं। यदि गाय दुधारू नहीं है, तो भी गोबर और गौ-मूत्र का उपयोग कर हम इनका लाभ उठा सकते हैं।’