एक तरफ भारत चीन सीमा पर चीन से तकरार लगातार जारी है। बढ़े तनाव के बीच बातचीत जहां जारी है वहीं सीमा पर चीनी सैनिकों की उकसावे वाली हरकतें भी बदस्तूर जारी है। भारत ने भी पिछले कुछ महीनों में चीन की हरकतों का माकूल जवाब दिया है। 


सीमा पर जहां भारत से भिड़ने का पहले जहां खामियाजा चीन भुगत चुका है वहीं बाद में एप्प बैन और अन्य आर्थिक गतिविधियों पर रोक या लगाम लगाने से फैसलों ने भी उसे गहरी चोट दी है। यही वजह है कि अब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग साझेदारी बढ़ाने की बात करते खुद नजर आए।


ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान चीनी राष्ट्रपति ने भारत के साथ साझेदारी बढ़ाने और कोविड-19 की चुनौतियों से निपटने की बात करते हुए कहा,’हमें COVID19 चुनौती से निपटने के लिए एक साथ आने की जरूरत है। टीके के तीसरे चरण के क्लीनिकल परीक्षणों में चीनी कंपनियां अपने रूसी और ब्राजीलियाई भागीदारों के साथ काम कर रही हैं, और हम दक्षिण अफ्रीका और भारत के साथ सहयोग करने के लिए तैयार हैं।’