जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के बाद कई नेता नजरबंदी के लंबे दौर से गुजरे। घाटी में शांति रही लेकिन अब एक बार फिर घाटी में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ने लगी है। महबूबा मुफ्ती के नजरबंदी से रिहा होने के बाद अलगाववादी नेताओं और राजनीतिक दलों की गोलबंदी ने कश्मीर में फिर राजनीतिक घटनाक्रमों को तेजी से बदला है। एक के बाद एक बयान सामने आ रहे जिसमे चीन से मदद लेने से लेकर मुसलमानों को भड़काने जैसे बयान भी शामिल रहे हैं।

अब इन्ही बयानों और इस गोलबंदी पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जोरदार हमला बोला है। एक के बाद एक ट्वीट करते हुए अमित शाह ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा और पूछा,’गुपकर गैंग ग्लोबल हो रहा है! वे चाहते हैं कि विदेशी ताकतें जम्मू-कश्मीर में हस्तक्षेप करें। क्या सोनिया जी और राहुल जी इस तरह के कदमों का समर्थन करते हैं? उन्हें अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए।’ 

अपने दूसरे ट्वीट में शाह ने लिखा,’कांग्रेस और गुप्कर गैंग जम्मू-कश्मीर को आतंक और अशांति के युग में वापस ले जाना चाहते हैं। वे अनुच्छेद 370 को हटाकर दलितों, महिलाओं और आदिवासियों के अधिकारों को छीनना चाहते हैं। यही कारण है कि उन्हें हर जगह लोगों द्वारा अस्वीकार किया जा रहा है।’

अपने एक और ट्वीट में शाह ने कहा,’जम्मू और कश्मीर हमेशा से भारत का अभिन्न अंग रहा है और रहेगा। भारतीय लोग अब हमारे राष्ट्रीय हित के खिलाफ अपवित्र ‘ग्लोबल गठबंधन ’ को बर्दाश्त नहीं करेंगे। या तो गुप्कर गैंग को राष्ट्रीय मूड के साथ तैरती है या फिर लोग इसे डुबो देंगे।’