दिल्ली सहित कई अन्य राज्यों में बढ़ते प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए पटाखों पर रोक लगा दी गई थी। अब यह रोक बिहार में भी मान्य होगी। राज्य सरकार की तरफ से यह रोक एनजीटी के उस आदेश के आलोक में लगाई गई है जिसमे कहा गया था कि खराब वायु गुणवत्ता वाले शहरों में पटाखों के उपयोग पर रोक लगाई जाती है।


बिहार में एयर क्वालिटी इंडेक्स नापने के पैमाना महज मुज़्ज़फरपुर, गया और राजधानी पटना में है और इन शहरों में हवा की गुणवत्ता काफी खराब है। इसी को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार के तरफ से सिर्फ ग्रीन पटाखों को निर्धारित समय सीमा में प्रयोग की अनुमति दी गई है। वहीं बड़े शहरों में इसपर भी रोक रहेगी।


इसके अलावा आपको बता दें कि राज्य सरकार ने त्योहारों के अवसर पर आतिशबाजी की समयसीमा भी तय कर दी है। दीपावली और गुरुपर्व पर केवल मान्य पटाखों का उपयोग रात आठ से 10 बजे के बीच किया जा सकता है। 


वहीं छठ पर सुबह छह से आठ बजे तक ही पटाखे चलेंगे। क्रिसमस और नववर्ष के मौके पर रात्रि 11.55 बजे से 12.30 बजे यानी सिर्फ 35 मिनट तक ही पटाखों का उपयोग किया जा सकेगा। इसके लिए पुलिस थानों को खास निर्देश जारी किए गए हैं।