बिहार विधानसभा चुनावों के नतीजों के एलान के बाद अब हर दल स्थिति की समीक्षा कर रहा है। इसमें खामियों को लेकर जहां चर्चा की जा रही है वहीं आगे की रणनीति पर भी बात लगातार हो रही है। इसी बीच आज पटना स्थित कांग्रेस कार्यालय सदाकत आश्रम में नव निर्वाचित विधायकों और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सह छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और अविनाश पांडेय की उपस्थिति में एक बैठक रखी गई।


इस बैठक के दौरान कांग्रेस का आपसी कलह खुलकर बाहर आ गया और दो विधायक आपस मे नेता विधायक दल चुने जाने को लेकर भीड़ गए। इस दौरान जमकर हो हल्ला देखने को मिला। हालांकि बाद में हंगामा कर रहे दोनो ही विधायकों को दरकिनार करते हुए भागलपुर से विधायक चुने गए अजीत शर्मा को कांग्रेस विधायक दल का नेता चुन लिया गया।


आपको बता दें कि बिहार में कांग्रेस को इस बार चुनाव में ज्यादा कामयाबी नहीं मिली है। महागठबंधन के तहत कांग्रेस ने 70 सीटों पर चुनाव लड़ा लेकिन महज 19 सीटें ही जीत सकी जबकि पिछले चुनाव में 2015 में 27 सीटें जीती थी। इसको लेकर कांग्रेस के अंदर और बाहर कलह उजागर होता रहा है।