फ्रांस में एक पत्रिका में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून को लेकर उपज वैवद अब पूरी दुनिया मे चर्चा के केंद्र में आ गया है। फ्रांस के विरोध में इस्लामिक देश उसके बहिष्कार की मांग कर रहे हैं वहीं फ्रांस ने भी इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात लगातार दोहराई है। इन सब के बीच अब यह विवद भारत में भी जोर पकड़ता नजर आ रहा है।

मध्यप्रदेश के भोपाल में फ्रांस के खिलाफ व्यापक पैमाने पर विरोध देखने को मिला है। यहां के इकबाल मैदान में गुरुवार को कांग्रेस विधायक की अगुवाई में बड़े पैमाने पर फ्रांस के राष्ट्रपति का विरोध किया गया। कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने इस दौरान केंद्र सरकार से मांग की कि केंद्र सरकार फ्रांस में भारतीय राजदूत को वहां के शासन के ‘मुस्लिम विरोधी’ रुख के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए कहे।

अब इस बयान पर एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। शिवराज ने एक ट्वीट करते हुए कहा,’मध्यप्रदेश शांति का टापू है। इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे। इस मामले में 188 IPC के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा, वो चाहे कोई भी हो।’

आपको बता दें कि इससे पहले भारत ने फ्रांस के समर्थन किया था और किसी भी तरह के आतंकवाद विरोधी लड़ाई में फ्रांस के साथ खड़े होने की बात दोहराई थी। खुद पीएम मोदी ने फ्रांस के नीस शहर में हुए एक हमले में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की थी और साथ खड़े होने की बात भी कही थी। हालांकि तुर्की, पाकिस्तान और मलेशिया जैसे देश खुलकर फ्रांस के विरोध और बहिष्कार की बात कर रहे हैं।