फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्‍स ट्रावनकोर लिमिटेड (एफएसीटी) द्वारा आयात किए गए मुरिएट ऑफ पोटाश (एमओपी) उर्वरक की 27,500 मीट्रिक टन की तीसरी खेप तमिलनाडु के तूतीकोरिन बंदरगाह पर सोमवार को पहुंच गई। माल को जहाज से उतारने और बोरियों में भरने का काम किया जा रहा है।

https://i2.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/IMG_20201028_134428F1NI.jpg?w=640
https://i1.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/IMG_20201028_134444B9EF.jpg?w=640

इस खेप के साथ ही एफएसीटी इस साल अब तक 82,000 मीट्रिक टन मुरिएट ऑफ पोटाश का आयात कर चुकी है।

मुरिएट ऑफ पोटाश एफएसीटी के प्रमुख उत्‍पाद फैक्‍टम फोस (एनपी 20:20:0:13) के साथ दक्षिण भारत में किसानों का एक पसंदीदा उर्वरक है।कंपनी इस साल एमओपी की दो और खेप मंगाने की योजना बना रही है।

इससे पहले कंपनी खरीफ सीजन के दौरान किसानों की मांग को पूरा करने के लिए एमओपी की दो और एनपीके (16:16:16)की एक खेप आयात कर चुकी है।

एफएसीटी देश में बड़े पैमाने पर उर्वरक बनाने वाली कंपनियों में से एक है। कंपनी ने इस वर्ष भी उर्वरकों के उत्‍पादन और विपणन के मामले में अच्‍छा प्रदर्शन किया है।