बिहार विधानसभा चुनावों के तारीखों के एलान के बाद अब पहले चरण के लिए नामांकन का दौर भी शुरू हो चुका है। थोड़ी देर और सस्पेंस के बाद ही सही सभी दलों ने अपने अपने उम्मीदवारों का एलान किया और अब धीरे धीरे प्रत्याशियों के नामांकन का सिलसिला शुरू हो चुका है। इस चुनाव के मुद्दों की बात करें तो कोरोना और बाढ़ से ऊपर इस बार पलायन और बेरोजगारी का मुद्दा हावी है। 


इन सभी बातों के बीच एक चीज जो दलों के लिए बड़ी परेशानी का सबब बन सकती है वह यह है कि क्या कोरोना काल मे वोटर अपने मताधिकार का प्रयोग करने घरों से निकलेंगे? इसका जवाब जानने के लिए बिहार के बाँका, भागलपुर और मुंगेर जिलों के कुछ कस्बों और गाँव मे हमने काफी दूरी तय की।

इस दौरान ग्रामीण आबादी और शहरी आबादी के सोच में एक बड़ा अंतर देखने सुनने और समझने को मिला। आपको बता दें कि इन जिलों में कुछ सीटों पर पहले चरण में मतदान होना है।

लोगों से बातचीत के बाद यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि गाँव मे रहने वाले लोगों में कोरोना का डर कम है या यूं कहें मतदान के प्रति वह कहीं ज्यादा उत्सुक हैं और घरों से निकलने के साथ दलों के वादों, उम्मीदवारों और स्थानीय मुद्दों पर नजर गड़ाए हुए हैं।

कुल मिलाकर कहें तो ग्रामीण क्षेत्र से बुजुर्ग और युवा मतदाता वोटिंग के लिए तैयार है। वहीं शहरी क्षेत्र की बात करें तो बिहार में शहरों या छोटे कस्बों में कोरोना का प्रसार ज्यादा दिखा यही वजह है कि लोगों में डर है।


शहरी आबादी चुनावों में दिलचस्पी तो ले रही है लेकिन किसी से कोई खास उम्मीद इस आबादी को नजर नही आती है। यही वजह है कि लोग कहते हैं ‘हाँ घर से एक दो कोई वोट कर आएगा?” मतलब अगर एक घर मे या संयुक्त परिवार में 5-10 वोटर हैं तो एक या दो वोटर ही निकलने को तैयार हैं।

हां युवा जरूर सोशल मीडिया और सड़क तक अब अलग अलग दलों और उम्मीदवारों की चर्चा के साथ मुद्दों में उलझे नजर आने लगे हैं। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि आयोग की गाइडलाइंस और सारे प्रबंधन के बाद भी वोटर टर्नआउट कैसा रहता है?

यह भी पढ़े बिहार चुनाव- एनडीए में फूट? एलजेपी के 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान करेंगे चिराग!

यह भी पढ़े बिहार चुनाव- उम्मीदवारों पर संशय के बीच पहले चरण के लिए अधिसूचना जारी, 7 मंत्रियों की इज्जत दांव पर

यह भी पढ़े Bihar Assembly Elections: बिखराव की ओर NDA, डिमांड नहीं मानी गई तो अकेले चुनाव लड़ेंगे चिराग पासवान

यह भी पढ़े बिहार चुनावः मैं किंग नहीं किंग मेकर बनना चाहता हूँ: तेज प्रताप, तेजस्वी को बताया अपना अर्जुन