वैश्विक महामारी कोरोना के इस दौर में इसके इलाज को लेकर हर दिन एक नई खबर आ रही है। कहीं वैक्सीन, कहीं दवाई, कहीं इम्युनिटी तो कहीं स्टेरॉइड की बात पर तकरार जारी है। ऐसे में आपसे कहे कि कोरोना का इलाज मधुर संगीत से किया जाए तो आपके मन मे क्या ख्याल आएगा? जी हां भारत के एक राज्य में संगीत के द्वारा अब कोरोना से पीड़ित मरीजों के इलाज की योजना बनाई जा रही है।


यह खबर आई है बिहार से, बिहार का कोरोना से लड़ाई में रिकॉर्ड अभी तक बेहतर रहा है। यहां रिकवरी रेट 88 फीसदी के करीब है। रोज एक लाख से ज्यादा जांच की जा रही है। इसी बीच बिहार के मुख्य सचिव की तरफ से अस्पतालों को आदेश दिये गए हैं कि म्यूजिक थेरेपी से कोरोना का इलाज किया जाए।


प्राप्त खबरों के मुताबिक भागलपुर के मायागंज अस्पताल के कोरोना वार्ड में अब कोरोना मरीजों का इलाज म्यूजिक थेरेपी या संगीत विधा से की जायेगी। उक्त निर्णय गुरुवार को सूबे के प्रधान सचिव स्वास्थ्य प्रत्यय अमृत द्वारा जेएलएनएमसीएच के प्राचार्य डॉ. हेमंत कुमार सिन्हा व अधीक्षक डॉ. अशोक कुमार भगत संग हुए वीडियो कॉन्फ्रेंसिग में लिया गया। प्रधान सचिव स्वास्थ्य ने प्राचार्य को निर्देश दिया कि कोरोना वार्ड में म्यूजिक सिस्टम लगाने की व्यवस्था की जाये। म्यूजिक सुनने से मरीज कोरोना से जल्द से जल्द ठीक होंगे।


मायागंज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. अशोक कुमार भगत ने कहा कि तीन दिन के अंदर मायागंज अस्पताल के एमसीएच आइसोलेशन वार्ड, आईसीयू व इंडोर मेडिसिन विभाग में म्यूजिक सिस्टम लगा दिया जायेगा। सुबह-शाम मधुर संगीत सुनने से कोरोना मरीजों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा। जिससे उनमें कोरोना से लड़ने की इच्छाशक्ति में वृद्धि होगी।