असम से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। यह खबर टाइम्स ऑफ इंडिया ने कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के हवाले से प्रकाशित की है। इस खबर के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई असम में बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। आपको बता दें कि फिलहाल रंजन गोगोई राज्यसभा सांसद हैं।


तरुण गोगोई ने कहा कि यह खबर उन्हें सूत्रों से मिली है कि संभावित सीएम पद के दावेदार के रूप में लिस्ट में रंजन गोगोई का नाम शामिल है। उन्होंने तर्क दिया, “यदि पूर्व मुख्य न्यायधीश राज्यसभा जा सकते हैं, तो वे बीजेपी के अगले ‘संभावित’ मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर भी सहमत हो सकते हैं।”

तरुण गोगोई ने कहा कि “यह सब राजनीति है। अयोध्या राम मंदिर मामले के फ़ैसले को लेकर बीजेपी रंजन गोगोई से ख़ुश है। फिर उन्होंने राज्यसभा का नामांकन स्वीकार करके धीरे-धीरे राजनीति में क़दम रखा।उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता स्वीकार करने से मना क्यों नहीं किया? वे आसानी से मानवाधिकार आयोग या अन्य अधिकार संगठनों के अध्यक्ष बन सकते थे। उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा है और इसीलिए उन्होंने नामांकन स्वीकार किया।”


तरुण गोगोई ने यह भी स्पष्ट किया कि कांग्रेस की तरफ से असम में कोई भी संभावित मुख्यमंत्री पद का दावेदार नही है और न ही वह खुद मुख्यमंत्री बनने के इच्छुक हैं। गौरतलब है कि तरुण गोगोई इन दिनों असम में कई छोटे दलों को साथ लाने के मिशन में लगे हैं ताकि बीजेपी को सत्ता में दुबारा आने से रोका जा सके और उसके खिलाफ एकजुट विपक्ष मजबूती से सामना कर सके।