चीन के वुहान से निकलकर पूरी दुनिया मे कहर बरपाने वाले कोरोना को लेकर अभी तक बस अनुमान, आकलन और बचाव का दौर चल रहा है। न इस महामारी से निपटने की कोई खास दवा है। न यह कब खत्म होगा और कैसे इसका कोई रोडमैप और न ही बचाव के अलावा कोई ठोस तरीका की कैसे इसके संक्रमण को रोका जाए? हालांकि शोध जारी है, वैक्सीन बनाने के दावे हो चुके हैं लेकिन अभी इसमें कितनी सफलता मिलेगी और कब तक यह शायद ठीक-ठीक बता पाना अब भी मुमकिन नही है।


इसी बीच वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के प्रमुख टेडरोस अधानोम घेब्रेसस ने एक अहम जानकारी दी है। हालांकि यह जानकारी पुराने महामारी के आकलन के आधार पर दी गई है। टेडरोस ने कहा है कि कोरोना आने वाले दो सालों में धरती से ठीक उसी प्रकार समाप्त हो जाएगा जैसे स्पैनिश फ्लू दो साल में हुआ था। हालांकि इसके पीछे इन्होंने वजह के रूप में बस इतना कहा कि आज के समय मे हमारे पास पहले से बेहतर ज्ञान और संसाधन है इसलिए हम इससे जल्दी भी निपट पाने में सक्षम हो सकते हैं।


WHO का यह बयान राहत देने वाला है बाकि यह देखना दिलचस्प होगा कि कैसे यह समाप्त होगा और कितना वक्त लगेगा। गौरतलब है कि 180 देशों के 2.26 करोड़ लोग इस महामारी के चपेट में आ चुके हैं वहीं अब तक 7.93 लाख लोगों की जान पूरी दुनिया मे जा चुकी है। भारत मे भी संक्रमितों का आंकड़ा 29 लाख के पार है जबकि 54 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।