पीएम नरेंद्र मोदी ने आज देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से 7वीं बार ध्वजारोहण किया. इस अवसर पर भाषण देते हुए उन्होंने चीन और पाकिस्तान को कड़े लहजे में एक बार फिर साफ़ साफ़ सन्देश दिया है की भारत की संप्रभुता हमारे लिए सर्वोच्च है और किसी भी कीमत पर इसके साथ समझौता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

पीएम मोदी ने कहा की LOC से लेकर LAC तक जिसने भारत की तरफ आँख उठाकर देखा है, हमारी सेना ने उसको उसी की भाषा में जवाब दिया है. इस संकल्प के लिए हमारे वीर किसी भी हद तक जा सकते है और इसका नज़ार दुनिया ने लद्दाक में देखा है. उन्होंने ये भी कहा की देश की रक्षा के लिए पूरे देश में जोश भरपूर है.

प्रधानमन्त्री ने अपने भाषण के दौरान ये बात दोहराई की हम अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे सम्बन्ध चाहते है और विकास, सुरक्षा और साझेदारी से आगे बढ़ना चाहते है. बीते जून लद्दाक में LAC पर हुई भारत-चीन के सैनिकों की झड़प के बाद प्रधामंत्री का ये बयान काफी अहम  माना जा रहा है. ये पहली बार है जब प्रधानमन्त्री ने खुल कर LAC का ज़िक्र अपने भाषण किया है. गौरतबल है की 15-16 जून की रात लद्दाक में चीन सेना के साथ झड़प में 20 जवान शहीद हो गए थे और चीन के भी 40 से ज्यादा जवान मारे गए थे.