अमेरिका ने एक बार फिर सीमा पार आतंक के मुद्दे पर भारत के रुख का समर्थन किया है। अमेरिका दौरे पर वाशिंगटन पहुंचे विदेश सचिव विजय गोखले की मुलाकात अमेरिकी विदेश सचिव माइकल पोम्पिओ से हुई जिसमें पोम्पिओ ने यह स्वीकार किया कि आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगाने के लिए पाकिस्तान की तरफ से अभी बहुत कुछ किया जाना बाकी है।

विदेश मंत्रालय की तरफ से दी गई सूचना के मुताबिक गोखले व पोम्पिओ के बीच हुई वार्ता में इस बात पर संतोष जताया गया कि सितंबर, 2018 में दोनो देशों के बीच हुई पहली रणनीतिक वार्ता टू प्लस टू के बाद द्विपक्षीय रिश्तों में काफी सकारात्मक सुधार हुए हैं। साथ ही आतंकवाद के खिलाफ दोनों देशों ने अपनी प्रतिबद्धता जताई है।

Tपोम्पिओ की तरफ से भारत को यह बताया गया कि अमेरिका उम्मीद करता है कि पाकिस्तान अपने यहां आतंकवादी ढांचे के खात्मे के लिए भी काम करेगा और वहां आतंकियों को जो संरक्षण दिया जा रहा है उस पर भी लगाम लगेगी। दोनो देश इस बात पर भी सहमत हुए कि आतंकी वारदातों को अंजाम देने वाले व्यक्तियों या संगठनों के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। इसी मुलाकात के दौरान पोम्पिओ ने एक सवाल के जवाब में कहा कि पुलवामा हमले के बाद पाक के आतंकी ठिकानों पर भारत की तरफ से की गई कारवाई बिल्कुल सही है। अमेरिका के इस कदम से साफ़ जाहिर है की आज दुनिया का हर देश भारत की आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ खड़ा है।