भारत मे तेल की बढ़ती कीमतें चर्चा का विषय हैं। सरकार से लेकर आम लोग सभी इस जरूरी वस्तु की बढ़ती कीमतों से प्रभावित हैं। लगातार दाम बढ़ रहे हैं और इसी के साथ आम लोगों में गुस्सा और सरकार पर दबाव भी बढ़ता जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार चल रही तेजी के बीच सरकार का कोई भी कारगर कदम विफल साबित हो रहा है। कोशिशें जारी है। हालांकि 2019 में लोकसभा चुनाव को देखते हुए इसे काबू करने के लिए सरकार भी एड़ी-चोटी का जोर लगाती नजर आ रही है। इसी क्रम में अब खुद पीएम मोदी ने मोर्चा संभाला है। इसका असर आने वाले दिनों में देखने को मिलेगा ऐसी उम्मीद जताई जा रही है।

इंडिया एनर्जी फॉरम की बैठक में पीएम मोदी ने 40 शीर्ष कंपनियों के निदेशकों के साथ बैठक में अपनी चिंता जताई। साथ ही कई सुझाव देते हुए इसे काबू में करने की बात भी कही। इसी बैठक में सऊदी अरब के मंत्री का एक अहम बयान सामने आया है। इस बयान के बाद भारत को तेल के मोर्चे पर बड़ी राहत की उम्मीद है। सऊदी अरब के पेट्रोलियम मंत्री खालिद अल फलीह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए कहा कि मोदी और उनकी सरकार ने भारत में कारोबार करने को सुगम कर दिया है और वे ‘अच्छे दिन’ ला रहे हैं। हम भारत की हर जरूरत को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम उसकी जरूरतों का ध्यान रखेंगे।

गौरतलब है कि ईरान के ऊपर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों और दबाव के बीच भारत जैसे देशों में यह दुविधा है कि जरूरतें कैसे पूरी होंगी? यहां यह बताना भी आवश्यक है कि सऊदी अरब ईरान के बाद भारत के लिए दूसरा बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता है। ऐसे में सऊदी का यह बयान भारत के लिए किसी बड़ी खुशखबरी से कम नही है।