कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के बिगड़े बोल ने भारत की राजनीति में हड़कंप मचा रखा है। बीजेपी के तेवर तल्ख हैं वहीं कांग्रेस डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। आम लोगों से लेकर मीडिया तक इस बयान का आकलन अपनी योग्यता,क्षमता और समझ के हिसाब से किया जा रहा है। आपको बयान तो पता ही होगा लेकिन चलिए इसके बावजूद हम आपको याद दिला दें कि शशि थरूर ने कहा था कि अगर 2019 में यदि बीजेपी जीत जाती है तो भारत हिन्दू पाकिस्तान बन जाएगा।

इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में भूचाल मचना स्वाभाविक था और हुआ भी यही। इन सब के बीच पहले जहां बीजेपी ने अपनी तरफ से जवाब जारी किया वहीं अब शशि थरूर के इस बयान का एक ऐसा जवाब आया है जिसमे उनकी बात का न सिर्फ विरोध है बल्कि साफ तौर पर यह भी कहा गया है कि हिन्दू इंडिया,मुस्लिम इंडिया से बेहतर है।

यह जवाब किसने दिया यह हम आपको आगे बताएंगे। आइये इससे पहले बता दें कि बीजेपी ने थरूर के बयान पर क्या कुछ कह दिया है। थरूर ने अपने बयान में यह भी कहा था कि बीजेपी अपना एक अलग संविधान लिखेगी जो अल्पसंख्यकों के अधिकारों के खिलाफ होगा और हिन्दू राष्ट्र की अवधारणा से प्रेरित होगा।

इस बयान पर बीजेपी की तरफ से मोर्चा संभाला बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने, उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक बार फिर हिंदुओं को बदनाम करने और नीचा दिखाने की कोशिश में जुटी है। इस बयान के लिए कांग्रेस को खेद व्यक्त करते हुए माफी मांगनी चाहिए। यह बयान लोकतंत्र पर हमला है। थरूर का इतिहास का ज्ञान अधूरा है और उन्हें हिंदुओं का इतिहास पढ़ना चाहिए।

थरूर का यह बयान हाफिज और लश्कर जैसे आतंकी संगठनों को खुश करने वाला है। बाद में कांग्रेस ने डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू करते हुए जवाब में कहा कि भारतीय लोकतंत्र के मूल्य काफी मजबूत हैं और पाकिस्तान जैसी स्थिति यहां कहीं से नही बन सकती है।


अब इसी मामले में बांग्लादेश की मुस्लिम और विवादित लेखिका तस्लीमा नसरीन का बयान आया है। अपने बयान में तस्लीमा ने कहा है कि इंडिया हिन्दू पाकिस्तान नही है। इंडिया हिन्दू इंडिया है। यह हिन्दू इंडिया मुस्लिम इंडिया से काफी अच्छा है। सेक्युलर इंडिया सबसे अच्छा है और यहां सेक्युलर का मतलब धार्मिक नही बल्कि बिना किसी धर्म के है।

तस्लीमा के इस बयान को शशि थरूर के बयान का बड़ा जवाब माना जा रहा है। साथ ही यह इसलिए भी खास है क्योंकि तस्लीमा खुद मुस्लिम समुदाय से आती हैं। यह अलग बात है कि वह विवादों में रही हैं। खैर जो भी हो थरूर के इस बयान का चंहु ओर विरोध हो रहा है और हो न हो इसका खामियाजा कांग्रेस को भुगतना पड़ सकता है।