कांग्रेस के अधिवेशन के दौरान राहुल गांधी ने रोजगार के मुद्दे पर पीएम मोदी और बीजेपी को खूब खरी-खरी सुनाई। इससे पहले वह एसएससी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों से मिलने भी पहुंचे। इसी बीच अब दिल्ली के बाद मुम्बई में छात्रों के बड़े प्रदर्शन को खबर सामने आ रही है। इस खबर के मुताबिक हज़ारों छात्र रेलवे में नौकरी देने की मांग को लेकर मुम्बई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेन की पटरियों पर उतर आए हैं। इन छात्रों की मांग है कि इन्हें अप्रेंटिस की जॉब दी जाए। हालांकि रेलवे ने अपने बयान में यह साफ कर दिया है कि अप्रेंटिस ट्रेनिंग का मतलब नौकरी देना कहीं से नही है।


मुम्बई में यह हाल के दिनों में किया जाने वाला दूसरा बड़ा प्रदर्शन है। इससे पहले हजारों किसान अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर चुके हैं। उनकी मांगों के बारे में आश्वासन दिए गए और यह जल्दी ही खत्म हो गया। हालांकि इस मुद्दे पर राजनीति गर्म रही और कांग्रेस के अलावा महाराष्ट्र नाव निर्माण सेना और शिवसेना के साथ रांकपा ने भी राज्य की फडणवीस सरकार और केंद्र की मोदी सरकार को जमकर घेरा। अब एक बार फिर छात्रों के आंदोलन को राजनीतिक रंग दे दिया गया है। कांग्रेस के अलावा मनसे ने भी उन्हें अपना समर्थन दिया है। ऐसे में अब देखना है इस आंदोलन का अंजाम क्या होता है और 2019 में इसके कग नतीजे दिखते हैं।