कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर तमाम अटकलें और खबरें हमेशा की तरह छाई हुई हैं। कहीं मोदी के विरोध में बोलते राहुल होते हैं तो कहीं राहुल का मजाक उड़ाते मोदी के वीडियो वायरल हो रहे होते हैं। इन सब के बीच बस एक ही तो मुद्दा है कि 2019 को छोड़िये आज जनता किसके साथ है। जो युवा 2014 में मोदी-मोदी के नारे लगाने में व्यस्त थे। हर रैली में आगे की भीड़ का हिस्सा था वह क्या चाहता है? किसान कहा चाहता है? व्यापारी क्या चाहता है और कुल मिलाकर फिर वही बात देश क्या चाहता है। आइये अब जवाब भी ढूंढें?


राहुल गांधी के मुताबिक पिछले चार साल में किसी भी वर्ग के लिए सरकार ने कुछ नही किया? नौजवान बेरोजगार है, किसान कर्ज में डूबा है, जीएसटी नोटबंदी से व्यापार ठप है। ऐसे में अगर राहुल जी की बात मानें तो मोदी के खिलाफ देश मे माहौल है। अब मोदी की सुनें तो वह कांग्रेस मुक्त भारत, भ्र्ष्टाचार में डूबी पार्टी और आज तक देश मे जो गलत हुआ उसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताते आये हैं। इसमे दम भी है 2014 के बाद से आज तक कांग्रेस सिमट ही रही है। भ्र्ष्टाचार के आरोप पार्टी पर वाकई हैं। ऐसे में इतनी जल्दी कोई कांग्रेस को दोबारा मौका नही देगा, यही निष्कर्ष है।


अब जनता की बात करें तो किसान क्या सभी को सरकार से आशा होती है, हालांकि कोई ऐसी सरकार नही आई जिसने आज तक अपना एक वादा भी ठीक ढंग से पूरा किया है। रोजगार की बात करें तो जो वादा था वह पूरा नही हुआ न इसकी उम्मीद है। ऐसे में कई ऐसे मुद्दे हैं जिनपर सरकार घिरी हुई है। मेरी राय में आज सोशल मीडिया से बढ़िया सर्वे और फीडबैक आपको कहीं से नही मिल सकता है। आपको बाकी अगर देखना ही है तो आजमाइए और देश का माहौल समझ जाइये। सोशल मीडिया पर आज युवाओं की बड़ी आबादी मोदी सरकार के खिलाफ है। यह सच है लेकिन इसके बावजूद लोग राहुल को विकल्प मानने को फिलहाल तैयार नही हैं। अब निष्कर्ष निकालिए और कमेंट में बताइए कि 2019 में क्या होगा अंजाम?