राहुल गांधी ने बतौर अध्यक्ष कांग्रेस के अधिवेशन के समापन सत्र को संबोधित किया इस दौरान वह लगातार मोदी सरकार और बीजेपी के साथ आरएसएस पर हमलावर रहे और जमकर शब्दबाण चलाये। इससे पहले उद्घाटन सत्र के दौरान भी राहुल का रुख बहुत हद तक आक्रामक ही था लेकिन समापन सत्र में यह और रौद्र हो गया। आइये आपको बताएं मोदी सरकार, बीजेपी और आरएसएस पर राहुल के पांच बड़े आरोप-


1. कांग्रेस देश के संविधान की इज़्ज़त करती है जबकि बीजेपी आरएसएस के संविधान को देश के संविधान के रूप में लागू करने पर तुली हुई है।

2.हम गलती करते हैं तो उसे स्वीकार करने की क्षमता भी रखते हैं लेकिन मोदी जी ने देश को बर्बाद कर दिया इसके बावजूद वह गलती स्वीकारने को तैयार नही है।

3.2014 में युवाओं को रोजगार के सपने दिखाए गए, किसानों को सपने दिखाए गए थे लेकिन आज दोनो ही परेशान हैं, दोनो का भरोसा मोदी राज में टूट गया।

4. बीजेपी और आरएसएस का मकसद कौरवों की तरह लड़ कर सत्ता हासिल करना है जबकि कांग्रेस पांडवों की तरह सत्य और न्याय की लड़ाई लड़ रही है।

5. देश को जाती धर्म के आधार पर बांटा जा रहा है कहीं इन्हें उनका खाना नही पसंद, कहीं भाषा नही पसंद कहीं कपड़े नही पसंद ऐसे में हिंदुस्तान को बदलना है तो नौजवानों को आगे आना होगा और कांग्रेस उनका सम्मान और स्वागत करती है।