ट्विटर पर राजनेताओं की सक्रियता हाल के दिनों में काफी बढ़ी है। न सिर्फ ट्विटर बल्कि सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म पर भी आज लगभग हर राजनेता सक्रिय है। यह सक्रियता 2014 में पीएम मोदी द्वारा चुनाव में इसके द्वारा मिली सफलता के वाद खास तौर पर बढ़ी है। इसी क्रम में 2015 में ट्विटर जॉइन करने वाले राहुल गांधी ने अपना ट्विटर एड्रेस यानि ट्विटर हैंडल का नाम बदल लिया है। साथ ही अब वह पहले के मुकाबले अधिक सक्रिय भी नजर आ रहे हैं।


राहुल का ट्विटर हैंडल पहले ऑफिस ऑफ आरजी के नाम से था लेकिन अब अगर कोई उन्हें इस नाम से ट्विटर पर ढूंढेगा तो वह नही मिलेंगे। उनका नया ट्विटर नाम राहुल गांधी से ही हो गया है। हालांकि इस उनके फॉलोवर्स को कोई फर्क नही पड़ेगा न ही उन्हें दोबारा राहुल को फॉलो करने की जरूरत पड़ेगी। राहुल द्वारा ट्विटर एकाउंट में किये गए बदलाव को इस नजर से भी देखा जा रहा है कि ऑफिस ऑफ आरजी नाम से यह संदेश जा रहा था कि राहुल खुद ट्वीट नही करते। इसके अलावा अन्य नेता अपने नाम से मौजूद हैं और उनका गहरा प्रभाव भी है। यही वजह है कि राहुल ने अपने नाम का प्रयोग ही उचित समझा।