बीजेपी, मोदी और शाह के लिए आने वाला वक़्त कड़ी और बड़ी चुनौतियों भरा है। बीजेपी आज बेशक तेजी से आगे बढ़ती हुई 20 से ज्यादा राज्यों में सरकार बना चुकी है लेकिन हाल के दिनों में जिस तरह अचानक एक के बाद एक मुद्दों पर सियासत का रुख बदल है ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि क्या वाकई पीएम मोदी 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर पूरी तरह तैयार हैं।

बीजेपी के अंदरखाने फिलहाल इस बात से ज्यादा ध्यान इस साल होने वाले राज्य विधानसभा के चुनावों पर है और शायद यह होना इसलिए जरूरी भी है क्योंकि इसी रास्ते 2019 मे सत्ता की राह निकलेगी। अगर इन राज्यों में बीजेपी किसी भी तरीके से फेल हुई तो इसमें कोई दो राय नही की बीजेपी के लिए आगे की राह मुश्किल होगी।

अब अगर बात करें असल सवाल कि तो इसका जवाब यही है कि न तो पीएम मोदी, न बीजेपी और न इसके नेता 2019 चुनाव के लिए अभी पूरी तरह तैयार हैं। यह जवाब इसलिए भी सही माना जा सकता है क्योंकि हाल के दिनों में सरकार रोजगार से लेकर दलित आंदोलन, अर्थव्यवस्था से लेकर बैंकिंग और शिक्षा से लेकर सड़क तक चुनौतियों का सामना कर रही है।

यह वह चुनौतियां हैं जो मोदी सरकार के लिए सत्ता वापसी में सबसे बड़ी बाधा हैं। इसके अलावा इसके पीछे एक कारण यह भी है कि पहले मोदी सरकार इसी साल चुनाव करने के मूड में थी, ऐसी खबरें सियाशी गलियारों के साथ मीडिया में भी आईं लेकिन मुद्दों पर पिछड़ते देख सरकार ने न सिर्फ यह फैसला लेने से खुद को रोक लिया बल्कि विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ करने के प्लान को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया। अब देखना है आगे इन चुनौतियों से सरकार कैसे निपटेगी और कौन सी वह तैयारियां होंगी जो बीजेपी का बेड़ा पार लगाएंगी?