पिछले कुछ महीनों से अचानक एक चर्चा शुरू हुई कि पीएम मोदी समय से एक साल पहले यानि 2018 में ही लोकसभा चुनाव कराने का एलान कर सकते हैं। इसको लेकर कुछ खास जानकारी न सरकार की तरफ से निकल कर आई न विपक्ष की तरफ से ऐसे में यह महज अफवाह ही लगता है। इसके बावजूद यह क़तई नही कहा जा सकता कि यह सच नही हो सकता, ऐसे इसलिए है क्योंकि पीएम मोदी अपने चौंकाने वाले फैसलों के लिए जाने जाते हैं। ऐसे में हो सकता है अचानक किसी दिन इस तरह का कोई एलान कर दिया जाए। अब आइये जानते हैं कि क्यों हैं ऐसी खबरें? क्या है सच्चाई? 

इन खबरों में दम तो है हालांकि इतना भी नही जितना बताया गया। खबरों के मुताबिक अप्रैल में एलान हो सकते हैं। जी नही ऐसा अब इस माहौल में नही होगा जब कि बीजेपी अपने सहयोगियों और विपक्ष से घिरी हुई है। पहले ऐसा एलान इसलिए संभव था क्योंकि मोदी लहर फीकी पड़ने से पहले मोदी और बीजेपी यह मौका भुना लेना चाहते थे। साथ ही ऐसे अचानक एलान से विपक्ष खास कर कांग्रेस और राहुल जो मुख्य विरोधी और दल है, को समय न मिलता, न मुद्दे उठ पाते जिसका सीधा फायदा बीजेपी को मिलता। हालांकि अचानक कुछ दिनों में बदले राजनीतिक माहौल में फिलहाल ऐसा कोई फैसला संभव नजर नही आ रहा है। इसके पिछे एक कारण यह भी है कि अटल बिहारी वाजपेयी भी ऐसा कर चुके हैं और यह फार्मूला पूरी तरह फ्लॉप रहा था। ऐसे में शायद ही मोदी यह जोखिम लें?