भारत को आत्महत्याओं की राजधानी कहा जाने लगा है। यहाँ इसके आंकड़े भयावह हैं। हर वर्ग इसकी चपेट में है। खास कर युवा तेजी से मौत को गले लगाने को आतुर दिख रहे हैं लेकिन यह आंकड़ा महिलाओं के मामले में थोड़ा ठीक नजर आता है। बीबीसी की एक रिपोर्ट की मानें तो भारत से इस मामले में आगे एक और देश है जो महिलाओं के लिए कब्रगाह साबित हो रहा है।

इस रिपोर्ट के अनुसार कैरेबियाई देश गुयाना में महिला आत्महत्या के मामले सबसे ज्यादा दर्ज किए गए। आंकड़ों के मुताबिक यहां प्रति एक लाख लोगों पर 44 लोग आत्महत्या कर रहे हैं। हालांकि इनके पीछे कोई एक सटीक या स्पष्ट कारण तो नही बताया गया है लेकिन इतना जरूर है कि इसके पीछे महिलाओं का जीवन स्तर और सामाजिक, पारिवारिक ताना-बाना जिम्मेदार है।