एआईएमआईएम के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी एक बार फिर अपने विवादित बयान की वजह से सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने सैनिकों की शहादत को धर्म से जोड़ने की और किरकिरी करा बैठे। ओवैसी ने अपने बयान में कहा था कि कश्मीर में पिछले दिनों हुए आतंकी हमले में शहीद सात में से पांच जवान मुस्लिम थे लेकिन इस बारे में कोई बात नही हो रही है।क्यों? ओवैसी के इस बयान का जवाब अब सेना की तरफ से आया है।

सेना के उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट देवराज अनबु ने आगे आकर जवाब देते हुए कहा कि सेना अपने शहीदों के नाम को धर्म से नही जोड़ती। इस मसले पर सवाल उठाने वाले वह लोग हैं जिन्हें सेना के काम करने के तरीके के बारे में पता ही नही है। उनका यह बयान अप्रत्यक्ष तौर पर ओवैसी के लिए था। हालांकि उन्होंने नाम नही लिया।

ओवैसी के इस बयान के बाद बीजेपी सहित अन्य दलों ने भी जमकर हमला बोला है। सोशल मीडिया पर भी लोग इस बयान पर चर्चा करते दिखे। कुछ लोगों ने इसे आतंकवाद से जोड़ते हुए लिखा कि जिन्होंने कभी आतंकवाद और आतंकियों के धर्म को लेकर कुछ नही बोला आज वह जवानों की शहादत पर धर्म की राजनीति कर रहे हैं। ऐसी राजनीति से दूर होकर सेना का समर्थन करना चहिए। कुल मिलाकर आम लोग और सेना के साथ अन्य दल ओवैसी के इस बयान से नाराज दिखे और उम्मीद है उन्हें इसका जवाब मिल गया होगा।